1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर मूल कोशिकाओं को भेजा गया है
अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर मूल कोशिकाओं को भेजा गया हैतस्वीर: Roscosmos Space Agency Press Service/AP Photo/picture alliance
विज्ञानसंयुक्त राज्य अमेरिका

क्या कोशिकाओं का विकास अंतरिक्ष में ज्यादा अच्छा होगा

१९ जुलाई २०२२

रिसर्चर ध्रुव सरीन की अपनी मूल कोशिकाएं फिलहाल धरती की कक्षा में चक्कर लगा रही हैं. इस पूरी कवायद का मकसद यह पता लगाना है कि क्या शून्य गुरुत्वाकर्षण वाली जगह पर उनका बेहतर विकास होगा.

https://www.dw.com/hi/%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%95%E0%A5%8B%E0%A4%B6%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%93%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%B8-%E0%A4%85%E0%A4%82%E0%A4%A4%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B7-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%9C%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%A6%E0%A4%BE-%E0%A4%85%E0%A4%9A%E0%A5%8D%E0%A4%9B%E0%A4%BE-%E0%A4%B9%E0%A5%8B%E0%A4%97%E0%A4%BE/a-62521080

लॉस एंजेलिस के चेदार्स सिनाई मेडिकल सेंटर के वैज्ञानिक ऐसी मूल कोशिकाओं को बड़ी मात्रा में पैदा करने के नये तरीके ढूंढ रहे हैं जो शरीर में दूसरी तरह की कोशिकाओं को जन्म दे सकती हैं. इनका इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज में हो सकता है. ये कोशिकाएं इसी सप्ताहांत में एक सप्लाई शिप के जरिये अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पर पहुंचीं.

ध्रुव सरीन का कहना है, "मुझे नहीं लगता कि निजी तौर पर अंतरिक्ष में जाने का जो भी खर्च है वो मैं उठा सकता हूं लेकिन कम से कम मेरा कुछ हिस्सा कोशिकाओं के रूप में अंतरिक्ष में जा सकती हैं." मूल कोशिकाओं को अंतरिक्ष भेजने की कड़ी में यह प्रयोग बिल्कुल नया है.

यह भी पढ़ेंः वैज्ञानिकों ने ट्यूमर के अंदर ही खोजी कैंसर से लड़ने की फैक्ट्रियां

इसकी तरह कुछ और प्रयोगों का उद्देश्य बड़ी मात्रा में कोशिकाओं को पैदा करने की राह में इलाकाई मुश्किलों को दूर करना है. कुछ प्रयोग यह जानने के लिए भी हो रहे हैं कि अंतरिक्ष यात्रा का शरीर की कोशिकाओं पर क्या असर होता है. जबकि कुछ प्रयोग कैंसर जैसी बीमारियों को समझने में हमारी मदद करेंगे.

पहले भी अंतरिक्ष में भेजी गईं कोशिकाएं

चेदार्स सिनाई रिजेनरेटिव मेडिसिन इंस्टीट्यूट के कार्यकारी निदेशक क्लाइव स्वेंडसेन का कहना है, "इस तरह से सीमाओं के पार जा जाने से ज्ञान, विज्ञान और सीखने का अवसर मिलता है." इससे पहले अमेरिका, चीन और इटली के छह प्रयोगों में अलग अलग तरह की मूल कोशिकाएं भेजी जा चुकी हैं.

मूल कोशिकाओ की मदद से कई बीमारियों का इलाज करने की कोशिश हो रही है
मूल कोशिकाओ की मदद से कई बीमारियों का इलाज करने की कोशिश हो रही हैतस्वीर: Mpi Muenster/dpa/picture alliance

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के डॉ. जोसेफ वू के नेतृत्व में इंसान के हृदय के कोशिका स्तर के कामकाज पर माइक्रोग्रैविटी का असर जानने के लिए किया जा रहा प्रयोग भी शामिल है. वू ने पिछले साल अंतरिक्ष में मूल कोशिकाओं पर किये जा रहे रिसर्च के कई कार्यक्रमों में मदद की है. हालांकि जमीन पर इस रिसर्च का ज्यादातर हिस्सा अभी इस्तेमाल से दूर ही है.

फिलहाल तो मूल कोशिका आधारित जिन उत्पादों को भोजन और दवा विभाग ने मंजूरी दी है वह नाभिरज्जु के खून से रक्त बनाने वाली मूल कोशिकाएं हैं. इनका इस्तेमाल लिम्फोमा के कुछ मामलों में खून से जुड़ी बीमारियों के इलाज में होता है. फिलहाल ऐसी किसी थेरेपी को मंजूरी नहीं मिली जिसमें मूल कोशिकाओं को अंतरिक्ष में भेज कर या फिर वहां से धरती पर मंगा इलाज में इस्तेमाल किया जाता हो.

यह भी पढ़ेंः गुरुत्वहीनता में जेजी से खत्म होती हैं कैंसर कोशिकाएं

हालांकि धब्बे मिटाने वाले, पारकिंसंस के रोग और दिल का दौरा पड़ने से हृदय को होने वाले नुकसान के इलाज में मूल कोशिकाओं के इस्तेमाल के कुछ उपचार का क्लिनिकल ट्रायल जरूर हो रहा है. इसके अलावा टाइप 1 डायबिटिज के इलाज में भी मूल कोशिका की मदद लेने के लिए रिसर्च चल रहा है. वैज्ञानिकों को मूल कोशिकाओं में अपार संभवनाएं दिख रह हैं.

गुरुत्वाकर्षण की दुविधा

मूल कोशिकाओं की मदद से इलाज के वादों में एक समस्या गुरुत्वाकर्षण की है. धरती का गुरुत्वाकर्षण बड़ी मात्रा में कोशिकाएं विकसित करने में बाधा है और इसके बिना भविष्य के इलाज मुमकिन नहीं हैं क्योंकि एक मरीज के इलाज में एक अरब से ज्यादा कोशिकाओं की जरूरत होती है. सेंट लुई के वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में बायो मेडिकल इंजीनियरिंग के विशेषज्ञ जेफरी मिलमैन कहते हैं, "मौजूदा तकनीकों के साथ अगर एफडीए इन सब थेरेपियों की मंजूरी तुरंत दे भी दे तो हमें जिस चीज की जरूरत होगी उसे बनाने की क्षमता नहीं है."

मिलमैन ने बताया कि बड़े बायोरिएक्टरों में कोशिकाओं को लगातार तेजी से हिलाना होता है नहीं तो वे टैंक की तली में बैठ जाएंगे या फिर आपस में चिपक कर झुंड बना लेंगे. इस तनाव की वजह से ज्यादातर कोशिकाएं मर जाती हैं. स्वेंडसेन का कहना है, "शून्य गुरुत्वाकर्षण में उन पर कोई बल नहीं लगता इसलिए वो अलग तरीके से विकसित हो सकती हैं."

वैज्ञानिक देखना चाहते हैं कि गुरुत्वाकर्षण से दूर रहना कोशिकाओं के विकास पर क्या असर डालता है
वैज्ञानिक देखना चाहते हैं कि गुरुत्वाकर्षण से दूर रहना कोशिकाओं के विकास पर क्या असर डालता हैतस्वीर: UVA Health

चेदार्स सिनाई की टीम ने कुछ खास तरह की मूल कोशिकाएं भेजी हैं जिन्हें इंड्यूस्ड प्लूरीपोटेंट मूल कोशिका कहा जाता है. बहुत से वैज्ञानिक इन्हें हर तरह के निजी कोशिका आधारित इलाजों के लिए बेहतरीन शुरुआती मटीरियल मानते हैं. इन कोशिकाओं में मरीजों का डीएनए भी जा सकता है और चंचलता इन्हें भ्रूण कोशिकाओं जैसा बनाती है, सिर्फ इन्हें ही वयस्कों की त्वचा या फिर रक्त कोशिकाओं के लिए रिप्रोग्राम किया जा सकता है.

यह भी पढ़ेंः कैंसर से लड़ने में काम आ सकता है फफूंद

नासा के फंड से चल रहे इस प्रयोग के लिए जूते के डिब्बे के आकार वाले कंटेनरों में कोशिकाओं से भरे बैग हैं. उनमें पंप और वह सॉल्यूशन भी मौजूद है जो उन्हें चार हफ्ते तक जिंदा रखेगा. वैज्ञानिकों ने अपने खुद के श्वेत रक्त कोशिकाओं से निकले मूल कोशिकाओं का इस्तेमाल किया है क्योंकि इसके लिए उन्हें सहमति हासिल करने में दिक्कत नहीं हुई.

ये लोग पृथ्वी पर भी कोशिकाओं के एक बॉक्स के साथ प्रयोग करेंगे ताकि तुलना की जा सके. पांच हफ्तों बाद उन्हें अंतरिक्ष से वापस लौटी कोशिकाएं मिल जाएंगी. यह प्रयोग नासा के फंड से कुछ और रिसर्चों की राह बना सकता है. अगर ये लोग अंतरिक्ष में अरबों कोशिकाएं बनाने में सफल हो गए तो स्वेंडसेन का कहना है, "इसका बहुत बड़ा असर होगा."

एनआर/एए (एपी)

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

इटली में संसदीय चुनाव

इटली में आम चुनाव, यूरोप का इम्तिहान

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं