कोरोना के चंगुल से निकलता सार्वजनिक यातायात | भारत | DW | 21.05.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

कोरोना के चंगुल से निकलता सार्वजनिक यातायात

केंद्र सरकार ने देश के अंदर 25 मई से यात्री हवाई सेवा फिर से शुरू करने की इजाजत दे दी है. इसके अलावा 200 और ट्रेनें भी चलाई जाएंगी. बसें, रिक्शा इत्यादि चलने शुरू हो गए हैं. मेट्रो और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें अभी भी बंद हैं.

तालाबंदी के चौथे चरण के दिशा निर्देशों में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन करते हुए केंद्र सरकार ने घरेलू हवाई सेवा फिर से शुरू करने की इजाजत दे दी है. नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बुधवार 20 मई को कहा कि सोमवार 25 मई से कुछ घरेलू कमर्शियल पैसेंजर उड़ानें शुरू की जाएंगी. उनकी घोषणा के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तालाबंदी के दिशा-निर्देशों में संशोधन करते हुए प्रतिबंधित गतिविधियों की सूची में से "यात्रियों द्वारा देश के अंदर उड़ानों के जरिए यात्रा" को हटा दिया.

बीते रविवार को ही ये दिशा-निर्देश जारी हुए थे, जिनमें घरेलू यात्री उड़ानों को 31 मई तक प्रतिबंधित कर दिया गया था. ये स्पष्ट नहीं हुआ है कि तीन दिनों में ही इस रणनीति पर पुनर्विचार कर के अचानक उड़ानों को शुरू करने के फैसला क्यों लिया गया. संभव है कि ये ट्रेन सेवाओं को शुरू कर देने की वजह से हुआ हो, क्योंकि कई लोग ये कह रहे थे कि जब ट्रेनों के जरिए यात्रा की अनुमति दे ही गई है तो हवाई यात्रा भी शुरू की ही जा सकती है.

खुद मंत्री हरदीप पुरी ने दो ही दिन पहले कहा था कि हवाई यात्रा शुरू करना सिर्फ उनके मंत्रालय या केंद्र सरकार के विशेषाधिकार की बात नहीं है और इसमें राज्यों की अनुमति की भी जरूरत है. संभव है कि अब सभी राज्य भी हवाई यात्रा शुरू कराने को तैयार हो गए हों. हवाई यात्रा सेवाएं शुरू करने से पहले एयरपोर्ट अथॉरिटी ने विस्तृत मानक भी जारी कर दिए हैं. यात्रियों को एयरपोर्ट के अंदर घुसने से पहले थर्मल स्क्रीनिंग जोन से गुजरना होगा और 14 साल से ऊपर की आयु वाले सभी यात्रियों को अपने मोबाइल फोन पर आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना होगा.

सुरक्षा जांच में यात्री और सुरक्षाकर्मियों में शारीरिक संपर्क ना हो यह भी सुनिश्चित किया जाएगा. खाने-पीने की जगहों पर शारीरिक दूरी लागू की जाएगी. हालांकि उम्मीद के विपरीत हवाई जहाजों के अंदर शारीरिक दूरी लागू नहीं हो पाएगी. कहा जा रहा था कि जब उड़ानें शुरू होंगी तब जहाजों में बीच की सीटें खाली रखी जाएंगी ताकि यात्रियों के बीच दूरी रहे. लेकिन सरकार ने कहा है कि ऐसा नहीं होगा क्योंकि सीटें खाली रखना "वायेबल" नहीं है, क्योंकि इस से सीटों के दाम बढ़ जाएंगे.

बताया जा रहा है की अधिकतर एयरपोर्ट उड़ानें फिर से शुरू करने के लिए तैयार हैं क्योंकि तालाबंदी के दौरान भी कार्गो उड़ानें और दूसरे देशों में फंसे हुए भारतीय नागरिकों को लाने के लिए विशेष उड़ानें चालू थीं. अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें कब शुरू होंगी इस बारे में सरकार ने कुछ नहीं कहा है. उधर रेल मंत्रालय ने भी रेल सेवाएं और बढ़ाने की घोषणा कर दी है. एक जून से पूरे देश में 100 जोड़ी ट्रेनें चलनी शुरू हो जाएंगी.

Indien Neu Delhi | Coronavirus | Bahnhof, Warteschlange

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के बाहर रेल यात्रियों की भीड़.

गुरूवार 21 मई से इन ट्रेनों में सफर करने के लिए आईआरसीटीसी की वेबसाइट या मोबाइल ऐप पर टिकट बुक की जा सकेंगी. टिकटें सिर्फ इंटरनेट या ऐप पर ही मिलेंगी और स्टेशनों पर इनकी बिक्री नहीं होगी. स्टेशन पर दुकानों को भी खोलने की इजाजत दे दी गई है. खाने-पीने की दुकानों पर सिर्फ टेक अवे सेवाएं उपलब्ध होंगी और वहां बैठ कर खाने की सुविधा नहीं होगी.

सार्वजनिक यातायात में राज्यों के अंदर बस सेवाएं पहले ही शुरू कर दी गईं थी. हालांकि कई शहरों से खबरें आ रही हैं कि बसों में 20 से ज्यादा सवारियों को ना बैठाने के नियम का पालन नहीं हो रहा है और बसें यात्रियों से ठसा-ठस भरी चल रही हैं. मेट्रो ट्रेनें अभी भी प्रतिबंधित हैं, हालांकि दिल्ली हाईकोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली में मेट्रो सेवाएं शुरू करने पर डीएमआरसी, दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार को विचार करने के लिए कहा है.

__________________________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री