कॉफी पीने से बढ़ सकता है जीवन | दुनिया | DW | 04.07.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

कॉफी पीने से बढ़ सकता है जीवन

क्या आप उन लोगों में से हैं जिन्हें सुबह उठते ही कॉफी चाहिए और शाम होते-होते कॉफी के कई मग गटक जाते हैं? घर वाले अगर आपको इस आदत के लिए टोकते हैं तो उन्हें बताएं कि लंबा जीवन जीने के लिए कॉफी फायदेमंद साबित हो सकती है.

ब्रिटेन के करीब पांच लाख लोगों पर की गई स्टडी से मालूम चला है कि कॉफी पीने वालों में मौत की आशंका करीब दस साल कम होती है. इसलिए अगर आप दिन में कई कप कॉफी पी जाते हैं, तो घबराने की जरूरत नहीं है. अमेरिकी रिसर्च का दावा है कि कॉफी पीने के गुण उन लोगों में भी पाए गए हैं जिनमें अनुवांशिक खामियां थीं. कॉफी न पीने वालों की तुलना में कॉफी पीने वाले 10 से 15 फीसदी लंबा जीवन जीते हैं, जो एक दशक के बराबर है. यह स्टडी जामा इंटरनल मेडिसिन जर्नल में पब्लिश हुई है. 

टुफ्ट्स यूनिवर्सिटी की न्यूट्रिशन एक्सपर्ट एलिस लिष्टेनश्टाइन मानती हैं कि स्टडी के नतीजे यह नहीं कहते कि कॉफी पीने से ही जवान रहा जा सकता है या कॉफी पीनी शुरू कर देनी चाहिए, "यह जरूर है कि जिसे हम रोजमर्रा के जीवन में पीना पसंद करते हैं, उसके कई फायदे हैं."

कॉफी की दुनिया के रिवाज

अमेरिका के नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट में शोध कर रहे इरिका लोफ्टफील्ड के मुताबिक, अब तक यह मालूम नहीं चल पाया है कि वे सटीक कारण क्या है जिसकी वजह से कॉफी पीने से लंबा जीवन मिलता है. कॉफी में एक हजार से भी अधिक केमिकल कंपाउंड पाए जाते हैं जिनमें एंटीऑक्सि़डेंट होते हैं जो कोशिकाओं की रक्षा करते हैं. अन्य स्टडी में पाया गया है कि कॉफी में पाए जाने वाले तत्वों से डायबीटिज से बचा जा सकता है क्योंकि इसे पीने से शरीर इंसुलिन को सही तरीके से इस्तेमाल करता है. हालांकि रिसर्च में यह साफ नहीं था कि प्रतिभागियों में से कितने हैं, जो ब्लैक कॉफी पीते हैं, कितने क्रीम या चीनी का इस्तेमाल करते हैं. लिष्टेनश्टाइन कहती हैं कि कॉफी में एक्स्ट्रा फैट या कैलोरी को डालना नुकसानदेह साबित हो सकता है.

वीडियो देखें 00:58

ये है कॉफी बनाने वाला रोबोट

पेशे से इंजीनियर और शिकागो में सुबह-सुबह अपने दोस्तों संग कॉफी पीना पसंद करने लेने वाले एडम टेलर मानते हैं कि स्टडी में दम जरूर है. वह कहते हैं, "कॉफी पीने से आप खुश रहते हैं. आप अपना पूरे दिन की प्लानिंग कॉफी की सिप के साथ करते हैं."

इस शोध के लिए 90 लाख ब्रिटिश व्यस्कों को बुलाया गया जिनकी उम्र 40 से 69 के बीच थी. इनसे कॉफी की रोजाना खपत पर कुछ सवालों के जवाब लिखित में मांगें गए और अन्य सवाल एक्सरसाइज से जुड़े थे. इसके बाद इनका ब्ल्ड टेस्ट हुआ और अन्य जांच हुईं.1,54,000 ने बताया कि वे रोजाना दो से तीन कप कॉफी पीते हैं. 10 हजार ने बताया कि वे रोजाना कम से कम आठ कप कॉफी पीते है. बरिस्ता के बिना लंदन के कॉफी हाउसों का क्या होगा

शोध शुरू होने के बाद एक दशक में इन प्रतिभागियों में से 14,225 की मौत हो गई जिनमें कैंसर या दिल की बीमारी के मामले अधिक थे. शोध में पाया गया कॉफी का सेवन करने वालों में दिल की बीमारी या ब्लड प्रेशर का रिस्क कॉफी न पीने वालों से अधिक नहीं था. ऐसे में यह कहना गलत होगा कि कॉफी से दिल की बीमारी बढ़ने के आसार होते हैं. 

वीसी/आईबी (एपी)

कितनी तरह की कॉफी के बारे में जानते हैं आप?

 

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

संबंधित सामग्री

विज्ञापन