कैसे थे दो अरब साल पहले धरती पर रहने वाले जीव | दुनिया | DW | 13.02.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कैसे थे दो अरब साल पहले धरती पर रहने वाले जीव

वैज्ञानिकों को मध्य अफ्रीका के गैबॉन देश में मिले काले पत्थर में 2.1 अरब साल पुराने चलने वाले जीवों के सबूत मिले हैं. इसे धरती पर ऐसे जीवों का सबसे पुराना साक्ष्य माना जा रहा है.

वैज्ञानिकों को जो 2.1 अरब साल पुराना काला शेल अफ्रीकी देश में मिला है, वह धरती पर जीवन के विकास के बारे में कई कड़ियां जोड़ सकता है. शेल एक प्रकार का पत्थर है, जिसमें कभी जीवों के होने के सबूत मिले हैं.

यह जानना दिलचस्प है कि उस पर छपे निशान किसी ऐसे जीव के लगते हैं जो चल सकते थे. यही कारण है कि इस खोज को धरती पर चलने वाले जीवों का सबसे पुराना सबूत कहा जा रहा है.

रिसर्चरों को इस जीवाश्म में छोटी और महीन नलियां दिखी हैं. उनका अनुमान है कि समुद्र में पाए जाने वाले इन जीवों ने कभी खाने कि तलाश में अपनी जगह बदली होगी. जीवाश्म उस समय के हो सकते हैं, जब धरती पर बहुत ऑक्सीजन होती थी और सरल कोशिकीय जीवों के लिए भी परिस्थितियां ठीक थीं.

धरती पर जीवन 4 अरब साल पहले शुरु हुआ माना जाता है. मानते हैं कि जीवन एक कोशिका वाले जीव से समुद्र में शुरु हुआ था, मगर वे चल नहीं सकते थे.

चलने-फिरने यानि मोबिलिटी का गुण ही इस बार गैबॉन में मिले जीवाश्मों को खास बनाता है. रिसर्चरों का मानना है कि शेल में मिले यह जीव करीब 1.5 अरब साल पुराने रहे होंगे, जो कि अब तक मिले जीवाश्मों से कहीं ज्यादा पुराना है. इस बार मिले शेल के भंडार में सबसे पुराने बहुकोशिकीय जीव भी मिले हैं.

फ्रांस के यूनिवर्सिटी ऑफ पोइटिए में पेलियोबायोकेमिस्ट्री और तलछटविज्ञानी एडबेराजाक अल अल्बानी कहते हैं, "यहां अहम बात यह है कि ये जीव बेहद अलग अलग आकार और माप के हैं और काफी जटिल भी हैं. हर जीव का व्यवहार करने का और बढ़ने का तरीका भी अलग है."

इन सबसे पहले मोबाइल जीवों की पहचान अभी रहस्य बनी हुई है. नली जैसे ढांचे वाली करीब 6.7 इंच लंबी संरचना किसी जैविक पदार्थ से बनी है. हो सकता है कि ये बलगम के लड़ी से बनी हो, जो किसी जीव ने कीचड़ में छोड़ा होगा. रिसर्चरों का कहना है कि ये ढांचे बहुकोशिकीय जीवों से या बहुत सारे एक जैसी कोशिका वाले जीवों के साथ आने से बने हैं. जब रहने के लिए अच्छे वातावरण की तलाश में अमीबा जैसे जीव एक साथ चलते हैं, तो भी ऐसे ढांचे बनते हैं.

अल अल्बानी का मानना है, "तथाकथित पेलियोप्रोटेरोजोइक युग - जो कि 2.5 से 1.6 अरब साल पहले था - तब जीवन केवल बैक्टीरिया के रूप में ही नहीं था बल्कि उसी दौर में कभी जटिल जीव भी पैदा हुए थे. ये कुछ चरणों में और कुछ खास पर्यावरण की स्थितियों में ही हुआ होगा." विकास के क्रम में पहले हड्डी वाले जानवरों की शुरुआत 52.5 करोड़ साल पहले, डायनासोर लगभग 23 करोड़ साल पहले और मानव प्रजाति की शुरुआत लगभग तीन लाख साल पहले हुई मानी जाती है.

वैज्ञानिकों का अनुमान है कि मोबिलिटी पर जो विकासवादी प्रयोग चल रहा था वे गैबॉन जीवों के आने के बाद कुछ समय के लिए रुक गया होगा. संभव है कि ऐसा करीब 2.08 अरब साल पहले धरती के वायुमंडल में अचानक ऑक्सीजन की कमी आने से हुआ हो.

एनआर/आरपी (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन