केरल के बाद उत्तराखंड में बारिश का कहर, 41 लोग मारे गए | भारत | DW | 19.10.2021

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

केरल के बाद उत्तराखंड में बारिश का कहर, 41 लोग मारे गए

उत्तराखंड में भारी बारिश के बाद बाढ़ और भूस्खलन में अभी तक 40 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं और कई लापता हैं. राज्य में तीन दिनों से लगातार भारी बारिश हो रही है.

उत्तराखंड में अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार को सोमवार को कम से कम छह लोगों की जान चली गई थी और मंगलवार को 35 और लोग मारे गए. इनमें से कम से कम 30 तो सबसे बुरी तरह से प्रभावित नैनीताल में ही छह अलग अलग हादसों में मारे गए.

नैनीताल में बादल फटने से कई स्थानों पर भूस्खलन हुआ और कई इमारतें टूट गईं. नैनीताल के वरिष्ठ अधिकारी अशोक कुमार जोशी ने बताया, "अभी तक 30 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है और कई लापता हैं."

उन्होंने यह भी बताया कि कई दूर दराज के इलाकों में तो काफी बड़े पैमाने पर तबाही हुई है. एक और स्थानीय अधिकारी प्रदीप जैन ने बताया कि मरने वालों में से पांच तो एक ही परिवार के सदस्य थे जिनका घर भूस्खलन के बाद जमीन में दब गया.

अल्मोड़ा जिले में भूस्खलन के बाद एक घर पर बड़े बड़े पत्थर और मिटटी की एक दीवार के गिर जाने से उसके अंदर पांच लोगों की मौत हो गई. सोमवार को दूर दराज के दो और जिलों में कम से कम छह और लोग मारे गए थे.

मौसम विभाग ने मंगलवार को अपनी चेतावनी को और विस्तृत कर दिया और अगले दो दिनों में इलाके में "भारी" से "बहुत भारी" बारिश की चेतावनी दी. विभाग ने कहा कि सोमवार को कई इलाकों में 400 मिलीमीटर से भी ज्यादा बारिश हुई थी, जो बाढ़ और भूस्खलन का कारण बनी.

राज्य में सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया और सभी धार्मिक और पर्यटन गतिविधियों को भी रोक दिया गया है. टीवी और सोशल मीडिया पर नैनीताल झील के पास घुटनों तक पानी में चलते हुए लोगों के वीडियो नजर आ रहे थे. ऋषिकेश में गंगा नदी में उफान के भी कई वीडियो आ रहे थे. रामगढ़ में कोसी नदी में बाढ़ के कारण एक रिसोर्ट में 100 से ज्यादा पर्यटक फस गए थे.

राज्य और केंद्रीय आपदा मोचन के अलावा राहत और बचाव कार्य के लिए सेना को भी बुला लिया गया है. सेना के हेलीकॉप्टरों की भी मदद ली जा रही है. मृतकों के परिवार वालों के लिए चार लाख रुपए और जिनके घर नष्ट हो गए उनके लिए 1.9 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की गई है.

(एएफपी से जानकारी के साथ)

DW.COM

संबंधित सामग्री