कीव की सड़कों पर खूनखराबा | दुनिया | DW | 19.02.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कीव की सड़कों पर खूनखराबा

यूक्रेन में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के दौरान कम से कम 25 लोग मारे गए हैं. यूक्रेनी राष्ट्रपति का कहना है कि वह खुद तो समझौते के लिए तैयार हैं, लेकिन विपक्षी नेता हिंसा के लिए जिम्मेदार हैं.

मंगलवार और बुधवार के बीच की रात अब तक के विरोध प्रदर्शनों की सबसे हिंसक रात रही है. कई घंटों की झड़पों के बाद भी पुलिस केंद्रीय कीव के स्वतंत्रता मैदान में विरोधी प्रदर्शनकारियों पर नियंत्रण पाने की कोशिश में थी. विरोधियों ने इस बीच टायरों और लकड़ी की एक दीवार बना ली है और उसके पीछे छिपे हुए हैं. पुलिस ने स्टन ग्रेनेड और पानी के फव्वारों की मदद से भीड़ को काबू में करने की कोशिश की और मैदान के लगभग आधे हिस्से पर कब्जा कर लिया. ट्रेड यूनियन की इमारत का निचला हिस्सा भी उनके नियंत्रण में है, जिसे विरोधियों ने अपना गढ़ बना लिया था.

Ukraine Protest Eskalation und Gewalt 19.02.2014

सरकार से बातचीत बंद हो गई है

हिंसा के बाद भी करीब 10,000 लोग मैदान में डटे रहे. पुलिस ने इस दौरान महिलाओं और बच्चों से कहा कि वे हट जाएं क्योंकि सरकार "आतंकवाद से निपटने" की कार्रवाई कर रही है. इस बीच यूक्रेन के और तीन शहरों में हिंसा फैल गई है. पुलिस का कहना है कि विरोधियों ने इवानो फ्रांकीव्स्क और लवीव शहरों में स्थानीय प्रशासन पर कब्जा कर लिया है. कीव में पुलिस ने बाकी शहरों से आ रही गाड़ियों का नियंत्रण करना शुरू कर दिया है ताकि विद्रोहियों को और सहयोग न मिल सके.

बातचीत पर रोक

बुधवार को एक ऑनलाइन बयान के जरिए राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच ने कहा कि उन्होंने समझौता करने की कई सारी कोशिशें कीं, लेकिन जब विपक्षी नेताओं ने "लोगों को हथियार उठाने को कहा तो उन्होंने अपनी सीमा पार कर दी". यानुकोविच के मुताबिक विपक्ष को अपने और उग्रवादियों के बीच फर्क करने की जरूरत है, "या तो फिर वह मान लें कि वह उग्रवादियों का समर्थन कर रहे हैं. फिर संवाद अलग ही तरह का होगा."

वहीं विपक्षी नेता और मुक्केबाज विताली क्लिचको ने मैदान में जमा करीब 20,000 लोगों को हिफाजत करने के लिए कहा, "यह आजादी का मैदान है और हम इसकी रक्षा करेंगे." क्लिचको और नेता आरसेनी यात्सेनयुक ने इस बीच राष्ट्रपति यानुकोविच से बातचीत खत्म करने का एलान कर दिया है. क्लिचको ने कहा, "सरकार को अपने सैनिक वापस लेने होंगे और हिंसा को खत्म करना होगा क्योंकि लोग मर रहे हैं. मैंने यानुकोविच से यही कहा.. हम कैसे बात कर सकते हैं जब लोगों का खून बह रहा है."

Ukraine Protest Eskalation und Gewalt 19.02.2014

धुएं से भरी स्वतंत्रता चौक

मंगलवार की सुबह को भी क्लिचको के कई समर्थक मैदान में मौजूद थे. 32 साल के आंतोन रिबकोविच ने समाचार एजेंसी एपी से कहा, "मैं हमला करने वाला हूं. जितनी हिंसा का इस्तेमाल सरकार करती है, उतना ही सख्त हमारा जवाब होगा."

हिंसा खत्म करे सरकार

इस बीच पश्चिमी देशों की सरकारों ने यूक्रेनी सरकार से संयम रखने को कहा है. अमेरिकी उप राष्ट्रपति जो बाइडन ने राष्ट्रपति यानुकोविच से टेलीफोन पर बातचीत के दौरान हिंसा खत्म करने और अपने पर नियंत्रण रखने की बात कही. यूरोपीय संघ की विदेश मामलों की प्रभारी कैथरीन ऐशटन ने यूक्रेन के नेताओं से संकट की वजहों का पता लगाने की बात कही है. जर्मन विदेश मंत्री फ्रांक वाल्टर श्टाइनमायर ने भी टेलीफोन पर यूक्रेनी विदेश मंत्री से बातचीत में कहा कि सरकार को एक राजनीतिक हल ढूंढने की कोशिश करनी चाहिए.

कीव में पिछले साल नवंबर में हिंसक प्रदर्शन शुरू हुए, जब राष्ट्रपति यानुकोविच ने यूरोपीय संघ के साथ सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया. राष्ट्रपति यानुकोविच ने इसके बदले रूस से मदद लेना बेहतर समझा. रूस का कहना है कि पश्चिमी देश बेवजह यूक्रेन के राजनीतिक मामलों में दखल दे रहे हैं.

एमजी/एजेए (एपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री