कितने कमाल की काई | विज्ञान | DW | 16.05.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

कितने कमाल की काई

बरसात के दिनों में जगह जगह हरे रंग की काई इकट्ठा हो जाती है, जिसे देख कर गंदगी का एहसास होता है. लेकिन यही काई बहुत काम की साबित हो सकती है. इस से जैविक ईंधन भी तैयार हो सकता है और कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ने के लिए दवाएं भी बन सकती है.

मंथन में खास

नए प्रकार की ऊर्जा

खान पान में भी

फफूंद के फायदे

संबंधित सामग्री

विज्ञापन