कश्मीर में संयुक्त राष्ट्र से दखल देने की मांग | जर्मन चुनाव 2017 | DW | 06.08.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

जर्मन चुनाव

कश्मीर में संयुक्त राष्ट्र से दखल देने की मांग

भारत प्रशासित कश्मीर में विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए हुई सुरक्षा बलों की गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई है. दो महीनों में 49 की मौत. अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक ने संयुक्त राष्ट्र से हस्तक्षेप की मांग की.

default

अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक ने कहा है कि उन्होंने खत लिखकर संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून को बताया है कि भारत ने कश्मीर में खुली जंग छेड़ दी है. मीरवाइज उमर फारूक के मुताबिक स्थिति दिनोंदिन गंभीर होती जा रही है और इसके चलते उन्होंने संयुक्त राष्ट्र से इस मामले में दखल देने के लिए कहा है.

Kaschmir Muslime Proteste

गुरुवार को भी कई इलाकों में झड़पे हुईं. दक्षिणी शहर पुलवामा में करीब 100 प्रदर्शनकारी मार्च के लिए निकले जिन्हें रोकने के लिए सुरक्षा बलों ने फायरिंग की और आंसूगैस के गोले छोड़े.

एक पुलिस अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर एपी न्यूज एजेंसी को बताया कि इस कार्रवाई में एक व्यक्ति की मौत हो गई और 15 लोग घायल हुए हैं. चार घायलों की हालत गंभीर बताई जा रही है. कुछ पुलिसकर्मी भी इन झड़पों में घायल हुए हैं.

गोलीबारी से पहले हजारों कश्मीरी युवकों ने आजादी की मांग के समर्थन में नारे लगाए और काली-हरी पट्टियां बांध कर काकपोरा शहर के पास तक मार्च किया. यहीं पर सोमवार को एक युवक की मौत हुई थी.

सीआरपीएफ के प्रवक्ता प्रभाकर त्रिपाठी का कहना है कि रैपिड एक्शन फोर्स के करीब 300 जवान श्रीनगर पहुंच चुके हैं जो हिंसक भीड़ पर काबू पाने का प्रयास करेंगे. केंद्र सरकार ने भी 2,000 अर्धसैनिक बलों को कश्मीर भेजा है. कश्मीर में सख्ती से कर्फ्यू लागू किया गया है और भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात हैं.

बुधवार को भारतीय गृहमंत्री पी चिदम्बरम ने कश्मीर में हिंसा रोकने की अपील करते हुए जनता से कहा कि सरकार बातचीत के लिए तैयार है. हिंसक प्रदर्शनों को रोकने के लिए कट्टरपंथी अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी ने शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करने की अपील की.

गिलानी ने कहा है कि जब भी प्रदर्शनकारियों को रोका जाए तो सुरक्षा बलों की गोली खाने के लिए उन्हें तैयार रहना चाहिए. लेकिन फायरिंग की घटनाओं से इस अपील का असर कम ही होता दिख रहा है.

जून महीने में एक किशोर की मौत से शुरू हुए विरोध प्रदर्शन अब हिंसक रूप ले चुके हैं और पथराव करती भीड़ सरकारी इमारतों और वाहनों को भी निशाना बना रही है. भारत विरोधी नारे लगा रही उग्र भीड़ को रोकने के लिए सुरक्षा बल गोलियों और आंसूगैस का सहारा ले रहे हैं जिससे स्थिति शांत होने के बजाए और भड़क रही है और लोगों का गुस्सा उबाल पर है. पिछले एक हफ्ते में ही 31 लोग मारे जा चुके हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: आभा एम

विज्ञापन