कराची शेयर बाजार पर आतंकवादी हमला | दुनिया | DW | 29.06.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

कराची शेयर बाजार पर आतंकवादी हमला

पाकिस्तान में सोमवार सुबह आतंकवादियों ने कराची स्टॉक एक्सचेंज पर हमला कर दिया. इसके बाद सुरक्षाबलों की कार्रवाई में चार आतंकवादी मारे गए. कम से कम तीन और लोग मारे गए हैं.

पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची में सोमवार सुबह एक आतंकी हमले में कराची स्टॉक एक्सचेंज को निशाना बनाया गया है. सुरक्षाबलों की कार्रवाई में चार आतंकवादी मारे गए. हमले में कम से कम तीन और लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है, जिनमें दो सुरक्षाकर्मी और एक पुलिस अफसर शामिल हैं.

कराची पुलिस के मुखिया गुलाम नबी मेमन ने मीडिया को बताया कि हमलावर एक गाड़ी में आए थे जो उन्होंने स्टॉक एक्सचेंज के बाहर रोकी और फिर इमारत पर एक ग्रेनेड फेंक कर गोलीबारी शुरू कर दी. उन्होंने बताया कि चारों हमलावर मारे गए.

ट्विटर पर हमले से जुड़े वीडियो और तस्वीरें शेयर की गई हैं.

पाकिस्तान मीडिया संस्थान जियो न्यूज के एक ट्वीट के मुताबिक हमले में कम से कम दो नागरिक मारे गए और कई सुरक्षाकर्मी घायल हो गए हैं. 

बलोच लिबरेशन आर्मी ने एक वक्तव्य में दावा किया है कि हमला उसके मजीद ब्रिगेड ने किया था. समूह ने मारे गए आतंकवादियों के नाम की भी घोषणा की. 

पाकिस्तान रेंजर्स के डिविशनल प्रमुख मेजर जनरल उमर बुखारी ने मीडिया को बताया कि आतंकवादी लोगों को बंधक बनाना चाहते थे और उनके पास एके-47 राइफलें, हैंड ग्रेनेड, काफी बड़ी मात्रा में गोलियां और खाने-पीने का सामान था.

कराची कभी जुर्म, राजनीतिक हिंसा और नस्लीय हिंसा के लिए जाना जाता था. राजनेताओं से संबंध रखने वाले हथियारबंद समूहों द्वारा अकसर प्रतिद्वंदियों की हत्या की और रिहाइशी इलाकों पर हमले की वारदात होती रहती थीं. पिछले कुछ सालों में यह तस्वीर बदली है और शहर में हालात स्थिर हुए हैं. यह तब संभव हो पाया जब सुरक्षा एजेंसियों ने इन समूहों और इस्लामी आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई की.

वैसे आतंकी समूह अब भी बीच बीच में हमले करने की क्षमता रखते हैं. सोमवार के हमले से हफ्ता भर पहले कराची में ही एक सरकारी दफ्तर के बाहर कतार में खड़े लोगों पर ग्रेनेड फेंक दिया गया. हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और आठ घायल हो गए थे. 

सीके/एके (एएफपी, डीपीए)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री