कमीशन नहीं करेगा फिक्सिंग की जांच | खेल | DW | 08.03.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

कमीशन नहीं करेगा फिक्सिंग की जांच

द.अफ्रीका फुटबॉल में मैच फिक्सिंग के आरोपों की जांच खुद नहीं करेगा. दक्षिणी अफ्रीकी राष्ट्रपति के मुताबिक जांच फीफा करेगी. 2010 के विश्व कप के पहले खेले गए दोस्ताना मैच में दक्षिण अफ्रीकी टीम पर फिक्सिंग के आरोप हैं.

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति कार्यालय ने एक बयान जारी कर कहा है कि जांच फुटबॉल की अंतरराष्ट्रीय संस्था फीफा करेगी. यह फैसला करीब डेढ़ साल के उस कदम के बाद आया है जिसमें खेल मंत्री फिकेले म्बालुला ने जांच के लिए कमीशन गठन करने का फैसला किया था. 2010 के विश्व कप के पहले खेले गए दोस्ताना मैचों के फिक्स होने की खबरें मीडिया में आने के बाद खेल मंत्री ने कमीशन द्वारा आरोपों की जांच कराने का फैसला किया था. दक्षिण अफ्रीकी टीम के कुछ दोस्ताना मैच संदेह के घेरे में हैं. सरकार की सुस्ती को देखते हुए फीफा ने पिछले साल नवंबर में कहा था वह अफ्रीकी देश से जांच ले लेगी. उस वक्त म्बालुला ने इस एलान की कड़ी निंदा की थी.

Mandela Trauerfeier Johannesburg 10.12.2013

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति का कमिशन के गठन से इनकार

सरकार की सुस्त जांच

फीफा द्वारा जांच से जुड़े दस्तावेज दक्षिण अफ्रीकी फुटबॉल एसोसिएशन को सौंपे जाने के बाद 2012 में संघ के पूर्व अध्यक्ष कर्स्टन नेमातंदानी और चार शीर्ष अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया था. फीफा ने अपने दस्तावेज में सिंगापुर स्थित मैच फिक्सर और इन अधिकारियों की साठगांठ का उल्लेख किया था. उसके एक महीने बाद ही प्रक्रियात्मक आधार पर निलंबन वापस ले लिया गया और उसके बाद से कोई जांच नहीं हुई.

फीफा ने 2010 विश्व कप के पहले खेले गए फ्रेंडली मैच के नतीजों को फिक्स माना था. विश्व कप के पहले अंतरराष्ट्रीय दोस्ताना मैचों में दक्षिण अफ्रीका का थाईलैंड, बुल्गारिया, कोलंबिया और ग्वातेमाला के साथ मुकाबला हुआ था. फीफा का कहना है कि यह सभी मैच फिक्स थे. 2011 में मैच फिक्सिंग के आरोपों का खुलासा सबसे पहले दक्षिणी अफ्रीकी प्रेस ने किया था.

एए/ओएसजे (रॉयटर्स)

DW.COM

विज्ञापन