ऑनलाइन फोरम पर एफबीआई को मारने की बात कहने वाला किशोर गिरफ्तार | दुनिया | DW | 14.08.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

ऑनलाइन फोरम पर एफबीआई को मारने की बात कहने वाला किशोर गिरफ्तार

अमेरिकी खुफिया एजेंसी एफबीआई ने एक ऐसे किशोर को पकड़ा है जो ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर जनसंहार का समर्थन करता था. एफबीआई को उसके पास 25 बंदूकें और 10,000 गोलियां भी मिली हैं.

सोमवार को ओहायो में रहने वाले 18 साल के  जस्टिन ओलसेन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई. जस्टिन पर संघीय कानून का पालन कराने वाले एजेंटों को मारने की धमकी देने के आरोप लगे हैं. ऑनलाइन फोरम में जस्टिन ने लिखा था, "नतीजे में, हर फेडरल एजेंट को देखते ही गोली मार दो." जस्टिन ने यह बात आईफन्नी नाम की एक वेबसाइट पर लिखी थी. इस फोरम में लोग मीम शेयर करते हैं और इससे 4,400 लोग जुड़े हुए हैं. जस्टिन के खिलाफ दर्ज शिकायत में यह भी कहा गया है कि उसने पहले भी ऐसी पोस्ट डाली थी जिसमें जनसंहार को समर्थन और उन लोगों को निशाना बनाने की बात थी जो परिवार नियोजन और प्रजनन के अधिकार गुट प्लान्ड पैरेंटहुड से जुड़े हैं.

एफबीआई के एजेंटों ने जब उसके पिता के घर की तलाशी ली तो वहां से 15 असॉल्ट राइफल और शॉटगन के साथ ही 10 सेमी ऑटोमैटिक पिस्टल भी उसके पिता के बेडरुम में मिले. इसके साथ ही बड़ी मात्रा में गोलियां भी बरामद हुईं. एफबीआई को वहां से "पहचान छिपाने वाले कपड़े और छिपाए जा सकने वाले बैकपैक भी मिले."

USA, Texas: Schüsse in El Paso (Getty Images/AFP/J. Angel Juarez)

फाइल

जस्टिन ने ऑनलाइन कमेंट करने की बात स्वीकार कर ली है लेकिन उसने इस बात पर जोर दिया है कि वह "केवल मजाक" था और यह टेक्सस के वाको में हुए विवादित झगड़े के संदर्भ में किया गया था. यह घटना 1993 की है. तब ब्रांच डेविडियंस नाम के एक धार्मिक गुट ने संघीय अधिकारियों पर यह आरोप लगाया था कि वे उनके सदस्यों हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार करने की कोशिश कर रहे हैं, एफबीआई ने उनके खिलाफ धावा बोला और आंसू गैस का इस्तेमाल किया. इसी दौरान इस गुट के परिसर में आग लग गई और इस 76 लोगों की मौत हो गई थी.

जस्टिन ओलसेन की गिरफ्तारी से महज एक हफ्ते पहले ही दो जनसंहार एक के बाद एक हुए. पहले टेक्सस के अल पासो और ओहायो के डेटॉन में हुए हमलों में 31 लोगों को गोली मारी गई. इसके बाद ही सांसदों ने बंदूक पर रोक लगाने और हिंसा से देश को मुक्त कराने की मांग रखी है.

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का कहना है कि उनके साथी रिपब्लिकन लंबे समय से चले आ रहे अपने प्रतिरोध को हटाएंगे. इसके साथ ही बंदूक खरीदने से पहले नागरिकों की पृष्ठभूमि के बारे में जांच को अनिवार्य करने के रास्ता साफ हो जाएगा. हालांकि 2020 में राष्ट्रपति चुनाव में उन्हें चुनौती देने वाले डेमोक्रैट सदस्य ज्यादा कड़े कदम उठाने की मांग कर रहे हैं.

टेक्सस और ओहायो में गोलीबारी के बाद मिसौरी के वालमार्ट स्टोर में 20 साल के एक शख्स को गिरफ्तार किया गया जिसने कवच और सेना के जवानों जैसे धब्बेवाली ड्रेस पहन रखी थी. उसके पास से एक असॉल्ट राइफल भी बरामद हुई. उस पर आतंकवादी खतरे का आरोप लगाया गया है. अल पासो में भी वालमार्ट के स्टोर में ही गोलीबारी हुई थी.

एनआर/आरपी(एएफपी)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन