एप्पल से आईट्यून के विदा होने का वक्त आ गया | विज्ञान | DW | 04.06.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

विज्ञान

एप्पल से आईट्यून के विदा होने का वक्त आ गया

एप्पल ने सोमवार को एलान किया कि संगीत की दुनिया में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने वाला डिजिटल ऐप आइट्यून की अब विदाई हो रही है. नए तरह के डिजिटल कंटेंट को देखते हुए इसकी जगह तीन ऐप ले लेंगे.

एप्पल के चीफ टिम कुक और दूसरे अधिकारियों ने आईफोन, आईपैड, एप्पल वॉच, एप्पल टीवी और मैक कंप्युटरों के लिए नया सॉफ्टवेयर लॉन्च करते समय प्राइवेसी से जुड़े फीचरों पर ज्यादा ध्यान दिया है. इस दौरान कंपनी ने संगीत उद्योग में अभूतपूर्व बदलाव करने वाले आइट्यून ऑनलाइन स्टोर को बंद करने का भी एलान किया है.  

एप्पल के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट (सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग) क्रेग फेदेरिघी ने कहा है, "आईट्यून का भविष्य एक ऐप नहीं है, यह तीन ऐप हैं. एप्पल म्यूजिक, एप्पल पॉडकास्ट और एप्पल टीवी."

2001 में लॉन्च हुआ आईट्यून एक ऑनलाइन शॉप है जहां से यूजर एप्पल आईपॉड प्लेयर  के लिए डिजिटल गीत खरीद सकते हैं, डाउनलोड कर सकते हैं. अब लोग म्यूजिक, वीडियो, पॉडकास्ट की स्ट्रीमिंग का मजा लेने लगे हैं. इसमें इंटरनेट क्लाउड ऑनलाइन डाटा सेंटरों की तरह काम करता है और हाई बैंडविड्थ वाले कनेक्शन की मदद से ऑन डिमांड इंटरटेनमेंट की मांग बढ़ गई है.

एप्पल ने आईफोन की बिक्री में आई गिरावट का सामना करने के लिए दुनिया भर में फैले एप्पल के ग्राहकों के लिए डिजिटल कंटेंट की बिक्री को प्राथमिकता देने की सोची है.

एप्पल का आईओएस सॉफ्टवेयर का नया संस्करण इसी साल के आखिर में आएगा. एप्पल के अधिकारियों का कहना है कि इसे "ऊपर से लेकर नीचे तक" दोबारा तैयार किया गया है जिससे कि इस्तेमाल करने वालों को नई तेजी का अनुभव मिले.

निजता के मामले में नए सुरक्षा उपाय आईओएस मोबाइल ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर में जोड़े गए हैं. ऐप  को लोकेशन का एक्सेस अब एक बार ही मिला करेगा और ग्राहकों को यह भी पता चल सकता है कि उनके ऐप  को कब उनके लोकेशन के बारे में जानकारी मिल रही है.

इसके साथ ही "साइन इन विद एप्पल" फीचर भी जोड़ा गया है जो लॉगिन विद फेसबुक और गूगल अकाउंट्स का विकल्प देगा. फेदेरिघी का कहना है, "यह भले ही आसान लगे लेकिन इसकी कीमत आपको निजता में दखल के रूप में चुकानी पड़ती है.

एप्पल ने आईपैड में कुछ नए बदलावों का भी एलान किया है जिसके बाद इन्हें मैक कंप्यूटरों के लिए ऑग्जिलियरी स्क्रीन के रूप में इस्तेमाल किया जा सकेगा और ये बहुत हद तक लैपटॉप की तरह काम कर सकेंगे जिसमें मल्टीपल विंडो पर एक साथ काम करने का विकल्प होगा. एप्पल ने पेशेवर लोगों के लिए एक उच्च दर्जे का मैक कंप्युटरों की सीरीज भी पेश की है जिनकी शुरुआती कीमत 5,999 डॉलर है.

एप्पल ने मोबाइल उपकरणों के लिए आईओएस 13 भी पेश किया है जिसमें "डार्क मोड" भी शामिल है. इसके अलावा मैप एप्लिकेशन को अपडेट किया गया है और फेशियल रिकॉग्निशन के जरिए तेज एक्सेस मिलेगा.

एनआर/एए (एएफपी)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

विज्ञापन