एडाथी ने जांचकर्ताओं की आलोचना की | दुनिया | DW | 12.02.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

एडाथी ने जांचकर्ताओं की आलोचना की

भारतीय मूल के जर्मन नेता सेबास्टियन एडाथी के इस्तीफे के बाद उनके घर पर पुलिस ने छापा मारा है. लेकिन अब भी उनके खिलाफ आरोपों के बारे में पता नहीं चला है. एडाथी ने अपने साथ हो रहे सलूक की आलोचना की है.

एडाथी ने बाल पोर्नोग्राफी पत्रिकाएं रखने के आरोप को खारिज किया है और हनोवर के सरकारी वकीलों की आलोचना की है. उनका कहना है, "मेरे सामने जो भी जानकारी है उसमें सरकारी वकील मुझ पर कोई भी ऐसा आरोप नहीं लगा रहा है जिससे मुझे सजा हो." एक दिन पहले एडाथी ने चाइल्ड पोर्नोग्राफी पत्रिकाएं रखने के सिलसिले में लगे आरोप खारिज किए थे. हनोवर के वकील एडाथी की जांच कर रहे हैं लेकिन उन पर आरोपों के बारे में अब तक कुछ भी सामने नहीं आया है.

डेनमार्क में एडाथी

सोमवार को पुलिस ने एडाथी के घर और चार और जगहों पर छापा मारा था. एडाथी ने इस बारे में कहा है, "छापे बढ़ा चढ़ाकर किए गए और साथ ही एक कानून पर आधारित राष्ट्र के हिसाब से नहीं थे. मैं उम्मीद करता हूं कि अभियोजन पक्ष जल्द बताए कि सारे आरोप बेबुनियाद हैं." लेकिन जांच एजेंसियां अपनी बात पर अड़ी हुई हैं. सरकारी प्रवक्ता काथरीन सोफकर का कहना है कि अगर एडाथी को यह छापे कानून के अनुकूल नहीं लगते, तो वह जांचकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज कर सकते हैं.

Sebastian Edathy Büroräume

दफ्तर पर छापा

पिछले सप्ताहांत एडाथी ने 15 साल संसद में रहने के बाद अपना इस्तीफा दिया. उन्होंने खराब स्वास्थ्य का हवाला दिया. बुंडेसटाग का सदस्य न होने की वजह से एडाथी पर सरकारी एजेंसियां बिना रोक के जांच कर सकती हैं. एडाथी की सोशल डेमोक्रेट पार्टी एसपीडी के सदस्यों का कहना है कि एडाथी इस वक्त डेनमार्क में हैं. पार्टी सदस्यों ने अपने नेता की जांच को जल्द से जल्द खत्म करने की मांग की है.

पोर्नोग्राफी के आरोप

जर्मनी की डेयर श्पीगल पत्रिका के मुताबिक एडाथी के पास कुछ ऐसा सामान मिला है जो उन्हें कनाडा की पुलिस की तीन साल से चल रही बाल पोर्नोग्राफी जांच से जोड़ता है. कनाडा की पुलिस ने पिछले साल एक बाल पोर्नोग्राफी गुट का खुलासा किया था. गुट के लोग बच्चों की अश्लील तस्वीरें और फिल्में बनाते और बेचते थे.

एडाथी ने इन आरोपों को खारिज किया है. वैसे उन्हें जर्मन राजनीति में सम्मान से देखा जाता है. वे 1988 से लगातार संसद में चुने गए हैं और उन्होंने जर्मन नवनाजी गुट पर संसदीय जांच आयोग की अगुवाई भी की थी.

एमजी/एएम (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन