एक लाख में बिकता एक बच्चा | मनोरंजन | DW | 24.03.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

एक लाख में बिकता एक बच्चा

नाइजीरिया में पुलिस ने एक घर पर छापा मार आठ गर्भवती लड़कियों को गिरफ्तार किया. इन लड़कियों की बच्चों को जन्म देने के बाद बेच देने की योजना थी.

प्रत्येक बच्चे को करीब 2,000 डॉलर यानि करीब एक लाख रुपये में बेचे जाने का विचार था. लागोस के पुलिस प्रवक्ता अबींबोला ओयेमी ने बताया, "खबर मिलने के बाद हमने ओगल प्रांत के अकूटे जिले में घर ढूंढकर छापा मारा और बेचने के लिए बच्चे पैदा करने वाली इन लड़कियों को गिरफ्तार कर लिया. उन्होंने बताया इन आठ में से ज्यादातर लड़कियां बीस साल से कम उम्र की हैं.

बेबी फैक्ट्री

घर में एक और महिला भी थी जिसके बारे में पुलिस का शक है कि वह संचालक है. हालांकि यह देश में अपनी तरह का पहला मामला नहीं है लेकिन दक्षिण पश्चिमी नाइजीरिया में पहली बार ऐसी घटना हुई है. बच्चों को बेचने के मकसद से पैदा करने के इस तरीके को बेबी फैक्ट्री के नाम से भी जाना जाता है.

ओयेमी ने बताया, "लड़कियों ने कबूल किया है कि वे प्रत्येक नवजात को दो हजार डॉलर में बेचने जा रही थीं." उन्होंने कहा कि मामले की जांच पूरी होने पर उन पर मुकदमा चलाया जाएगा.

साल 2011 से पुलिस ने बेबी फैक्ट्रियों पर छापे मार करीब 125 लड़कियों को छुड़ाया है. ज्यादातर को देश के दक्षिण पूर्वी प्रांतों से पकड़ा गया. दक्षिण पूर्वी नाइजीरिया में पिछले कुछ समय से मानव तस्करी के मामलों में वृद्धि हुई है. पिछले दो सालों में मैटरनिटी होम्स में जगह के लिए काला बाजारी जैसी घटनाएं आम हो गई हैं.

लड़कों के बेहतर दाम

अधिकतर मामलों में मैटरनिटी होम्स में जगह लेने वाली उन लड़कियों की संख्या ज्यादा है जो शादी के बगैर गर्भवती हुईं. उन्होंने बदनामी के डर से यहां पनाह ली. बच्चे को जन्म देकर वे उसे बेच पर मिलने वाले पैसों का कुछ हिस्सा अपने पास रखती हैं.

उनके ग्राहक ज्यादातर ऐसे दंपति हैं जिनकी खुद संतान नहीं होती. नवजात अगर लड़का हो तो लड़की के मुकाबले उन्हें दाम भी बेहतर मिलते हैं. पश्चिमी अफ्रीका में बाल तस्करी आम है. परिवारों से उठा कर लाए गए बच्चों से खेतों, खानों, फैक्ट्रियों और घरों में काम करवाया जाता है. वहीं लड़कियों को देहव्यापार के लिए दलालों को बेच दिया जाता है.

एसएफ/आईबी (एएफपी)