एक और खतरनाक शिकारी डायनोसॉर | विज्ञान | DW | 20.12.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

विज्ञान

एक और खतरनाक शिकारी डायनोसॉर

ताकतवर और डरावने टाइरेनोसॉरस रेक्स डायनोसॉर से लाखों साल पहले भी एक खतरनाक डायनोसॉर था जो अब के दक्षिणी ब्राजील में रहता था और अपने तीखे दांतों से शिकार करता था.

करीब 3 मीटर लंबा ग्नाथोवोरैक्स कैब्रिराई अपने समय का सबसे बड़ा और भयानक डायनोसॉर था जो भोजन चक्र में उस वक्त सबसे ऊपर था. बाद में यही भूमिका टी रेक्स ने भी निभाई. बुनियादी रुप से ग्नाथोवोरैक्स को उस वक्त के इस इलाके यानी ट्रियासिक पार्क का राजा कह सकते हैं. जुरासिक युग से पहले के जीव के प्रभुत्व वाला दौर अब से करीब 25 करोड़ साल पहले का था. सांता मारिया यूनिवर्सिटी के जीवाश्म विज्ञानी रोड्रिगो टेम्प मुलर का कहना है, "ट्रियासिक इकोसिस्टम में इसकी वही जगह थी जो आज शेर की है." यह मीट खाने वाला अब तक का सबसे पुराना डायनोसॉर है.

ब्राजीलियाई पंपा घास के मैदान उस वक्त ग्नाथोवोरैक्स के लिए रहने की जगह थी. तब पूरा इलाका समतल था और उसमें बढ़िया जंगल था जिसमें पेड़, काई वाली कीचड़ और बिना फूल वाले पौधे थे. आज यह जगह जीवाश्म विज्ञानियों के लिए सोने की खान जैसी है. अर्जेंटीना और उरुग्वे के साथ लगती ब्राजील की सीमा पर मौजूद रियो ग्रांडे डो सुल राज्य में 100 से ज्यादा खुदाई की जगहें मौजूद हैं जो जीवाश्मों से भरी हुई हैं.

ग्नाथोवोरैक्स का पहला कंकाल 2014 में साओ जोओ डो पोलेसाइन में मिला था. यह छोटा सा शहर प्रांतीय राजधानी पोर्तो एलेग्रे से महज 300 किलोमीटर दूर पश्चिम में है. यह कंकाल करीब 23 करोड़ साल पुराना है और डायनोसॉर के अब तक मिले जीवाश्मों में सबसे अधिक संरक्षित है. इस कंकाल की खोपड़ी और जबड़े बिल्कुल सुरक्षित हैं. इसका कंकाल लगभग पूरा होने वाला है. मुलर ने बताया, "यह सच है कि यह इतनी अच्छी स्थिति में है कि इसकी एनाटॉमी से हमें बड़ी सारी जानकारी मिलेगी. यह एक दोपाया डायनोसॉर था जो अपने पिछले दोनों पैरों पर चलता था और अपने पंजों का इस्तेमाल शिकार को फंसाने के लिए करता था." इस डायनोसॉर का वजन 70 से 80 किलो होता था.

इसके बहुत से गुण टी रेक्स से मिलते जुलते हैं जो करीब 15 करोड़ साल पहले उत्तरी अमेरिका में पाया जाता था. टी रेक्स की लंबाई 12 मीटर से ज्यादा हो सकती थी लेकिन यह ग्नाथोवोरैक्स का कोई दूरदराज का रिश्तेदार नहीं है. दोनों का परिवार अलग है. यह ब्राजील और अर्जेंटीना में मिले जीवों के जीवाश्म से ज्यादा करीब है. ये डायनोसॉर भयानक बाढ़ में बह गए. मुलर ने बताया, "हमने बहुत सारे जीवाश्म इस इलाके में ढूंढे है और निश्चित रूप से और भी बहुत सारे यहां मौजूद हैं. जिस तरह की गाद यहां मौजूद है उनमें इनका संरक्षण बहुत अच्छा हुआ है."

ग्नाथोवोरेक्स का कंकाल सांता मारिया यूनिवर्सिटी में नुमाइश के लिए रखा गया है. ब्राजील की रिसर्च टीम सिर्फ इसी डायनोसॉर पर अध्ययन नहीं कर रही है. उन्हें एक और डायनोसॉर का कंकाल मिला है जिसकी गर्दन बेहद लंबी है और जो करीब 22.5 करोड़ साल पुराना है. यह कंकाल 2012 में मिला था.

एनआर/आरपी (एएफपी)

______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | 

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन