उन्नाव: रेप पीड़िता की कार हुई हादसे की शिकार, साजिश के आरोप | भारत | DW | 29.07.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

उन्नाव: रेप पीड़िता की कार हुई हादसे की शिकार, साजिश के आरोप

उन्नाव में डेढ़ साल पहले स्थानीय विधायक पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की की कार रविवार रात रायबरेली में उस वक्त कथित तौर पर हादसे का शिकार हो गई जब वो अपने रिश्तेदारों और वकील के साथ जा रही थी.

हादसे के वक्त बलात्कार पीड़ित अपने रिश्तेदारों और वकील के साथ जेल में बंद अपने चाचा से मिलने जा रही थी. पीड़ित लड़की के साथ कार में उसकी चाची, मौसी और उसके वकील भी मौजूद थे. पीड़ित लड़की की चाची और मौसी की तत्काल मौत हो गई जबकि वकील और पीड़ित लड़की लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में जीवन और मौत से संघर्ष कर रहे हैं.

लखनऊ जोन के एडीजी राजीव कृष्ण ने प्रेस कांफ्रेंस करके बताया कि घटनास्थल पर तमाम नमूने इकट्ठा करके जांच के लिए भेजे जा चुके हैं. जांच रिपोर्ट आने पर घटना की सीबीआई जांच कराई जाएगी. उनके मुताबिक, "जिस ट्रक की टक्कर से दुर्घटना हुई है, उसके ड्राइवर, मालिक और क्लीनर को भी गिरफ्तार कर लिया गया है.”

इस मामले में सोमवार दोपहर बाद विधायक कुलदीप सेंगर समेत दस लोगों के खिलाफ नामजद और कुछ अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है. सुबह ही राज्य के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा था कि यह मामला प्रथम द्रष्ट्या हादसा प्रतीत होता है लेकिन पीड़ित लड़की के परिवार वालों का आरोप है कि यह हादसा नहीं बल्कि साजिश है.

जिस ट्रक से रेप पीड़िता की कार की टक्कर हुई, उसके नंबर प्लेट पर कालिख पुती हुई थी. एडीजी राजीव कृष्ण ने बताया कि ट्रक मालिक कर्ज की किश्तों का भुगतान नहीं कर पाया था, फाइनेंसर उसे बार-बार परेशान कर रहे थे, इस वजह से उसने ट्रक की नंबर प्लेट पर कालिख पोत दी थी.

इस हादसे पर चौतरफा सवाल उठ रहे हैं. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव सीधे तौर पर इसे साजिश बता रहे हैं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी इस पर सवाल उठाते हुए योगी सरकार की कानून व्यवस्था को कठघरे में खड़ा किया है. प्रियंका गांधी ने इस बात पर भी आश्चर्य जताया है कि रेप के आरोप में पिछले एक साल से जेल में बंद होने के बावजूद विधायक कुलदीप सिंह अब तक बीजेपी में बने हुए हैं.

वहीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद कहा कि जब तक इस मामले की सुनवाई उत्तर प्रदेश के बाहर नहीं होती, पीड़ित और उसके परिवार को न्याय नहीं मिलेगा. स्वाति मालीवाल ने राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर घायल पीड़ित और उसके वकील को इलाज के लिए किसी और जगह भेजने की मांग की है.

उन्नाव जिले के बांगरमऊ से बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर पर दो साल पहले उन्हीं के पड़ोस की रहने वाली एक नाबालिग लड़की ने बलात्कार करने का आरोप लगाया था. बार-बार पुलिस के चक्कर काटने के बावजूद जब उसकी शिकायत नहीं दर्ज हुई तो एक दिन उसने लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्महत्या की कोशिश की. पीड़ित लड़की तो बच गई लेकिन अगले दिन किसी मामूली झगड़े में हिरासत में लिए गए लड़की के पिता की मौत हो गई. आरोप लगे कि पीड़ित लड़की के पिता को इतनी बुरी तरीके से थाने में मारा-पीटा गया कि उनकी मौत हो गई.

रविवार को हुई सड़क दुर्घटना में मृत महिलाओं में से एक इस पूरे मामले में गवाह भी हैं. इस मामले में एक अन्य गवाह की मौत अभी कुछ दिन पहले ही हुई थी जो कि लड़की के पिता की हिरासत में हुई मौत के मामले में गवाह थे.

लड़की की मां के मुताबिक, इस मामले में उन्होंने पुलिस से शिकायत भी की थी और ऐसी किसी दुर्घटना की आशंका जताई थी, बावजूद इसके कोई कदम नहीं उठाया गया.

बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर पर उनके गांव माखी में घर के पड़ोस में ही रहने वाली एक नाबालिग लड़की ने बलात्कार का आरोप लगाया है. मामले के सुर्खियों में आने और चौतरफा दबाव के बावजूद उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई लेकिन जब खुद कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए सरकार को घेरा और उसके बाद सीबीआई जांच शुरू हुई तब जाकर पिछले साल 13 अप्रैल को कुलदीप सेंगर को सीबीआई ने गिरफ्तार किया.

यह मामला पिछले दिनों एक बार फिर सुर्खियों में उस वक्त आया जब उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महराज ने इस मामले के मुख्य अभियुक्त और सीतापुर जेल में बंद बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर से जेल में मुलाकात की और चुनाव में मदद करने के लिए उन्हें धन्यवाद दिया.

______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | 

 

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन