इस तस्वीर से पिघलेगा ट्रंप का दिल? | दुनिया | DW | 27.06.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

इस तस्वीर से पिघलेगा ट्रंप का दिल?

अल सल्वाडोर के एक शख्स की अपनी छोटी सी बेटी के साथ डूबने की तस्वीरों को देखकर दुनिया भर के लोगों का दिल पसीज आया. अमेरिका सीमा में प्रवेश करने के इरादे से चले इन बाप-बेटी की रियो ग्रांडे नदी में डूबने से मौत हो गई.

इस घटना ने एक बार फिर अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के विरोधियों को उनकी आव्रजन नीतियों का विरोध करने का एक कारण दे दिया है. डेमोक्रेट्स जमकर ट्रंप की आव्रजन नीतियों का विरोध कर रहे हैं. डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता बेटो ओ राउरके ने कहा, "इन मौतों के लिए ट्रंप जिम्मेदार हैं."

अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति जो बाइडेन ने भी इन तस्वीरों को "बेहद कष्टदायक" बताया. वह साल 2020 की राष्ट्रपति पद की दौड़ में भी शामिल हैं. बाइडेन ने कहा, "इतिहास देखेगा कि हमने कैसे ट्रंप प्रशासन की आव्रजन नीतियों के खिलाफ प्रतिक्रिया दी. हम आज चुप नहीं बैठ सकते."

वहीं ट्रंप ने डेमोक्रेट नेताओं को जवाब देते हुए कहा, "अगर हमारे पास सही कानून होते जो डेमोक्रेट नेताओं के चलते नहीं है, तो ऐसे लोग कभी नहीं आते और ना ही ये लोग आने की कोशिश करते." अमेरिका राष्ट्रपति ने कहा, "ये लोग खुली सीमाएं चाहते हैं और खुली सीमाओं का मतलब है अपराध, खुली सीमाओं का मतलब है कि लोगों का डूबना."

इंटरनेट पर वायरल हुई यह तस्वीर 25 साल के ऑस्कर अलबर्टो मार्टिन्ज और उनकी 23 महीने की बेटी वेलेरिया की है. दोनों 23 जून को मेक्सिको से टेक्सास की ओर आ रहे थे लेकिन नदी में डूबने से दोनों की उनकी मौत हो गई.

Mexiko Grenze zu USA | Todesfall zwei Flüchtlinge | Angehörige (picture-alliance/AP Photo/J. Le Duc)

ऑस्कर की पत्नी तानिया पुलिस अधिकारी के साथ

अल सल्वाडोर में रहने वाली ऑस्कर की मां रोजा रमीरेज ने समाचार एजेंसी एएफपी से कहा, "मेरा बेटा अपनी बेटी के लिए बेहतर जिंदगी के सपने देख रहा था. वे अमेरिका जाना चाहते थे, उनकी आंखों में अमेरिकी ड्रीम था."

इस बीच, मेक्सिको के राष्ट्रपति आंद्रेयास  मानुएल लोपेज ओब्राडोर पर भी आलोचक आरोप लगा रहे हैं. आलोचकों का कहना है कि अमेरिका में शरण की उम्मीद से जा रहे लोगों के लिए मेक्सिको को पार करना भी कठिन बना दिया गया है.

पोप फ्रांसिस ने भी इस घटना पर आक्रोश जताया है. वेटिकन के प्रवक्ता आलेसेंड्रो जिसोती ने कहा, "पोप इस घटना पर बहुत दुखी हैं. वह उन सभी प्रवासियों के लिए प्रार्थना कर रहे हैं जिन्होंने युद्ध और तकलीफों से भागने की कोशिश में अपनी जान गंवाई."

डेमोक्रेटर सीनेटर चक शुमर ने इस तस्वीर को भाषण के दौरान सीनेट में दिखाया और कहा, "राष्ट्रपति ट्रंप कैसे इस तस्वीर को देखकर यह नहीं समझते कि हिंसा और पीड़ा से भाग रहे ये लोग भी इंसान हैं."

Mexiko Grenze zu USA in | Rosa Ramirez, Angehörige ertrunkener Flüchtlinge (picture-alliance/AP Photo/A. Valladares)

ऑस्कर की मां रोजा रमीरेज

ऑस्कर के परिवार वाले अब भी इस घटना पर विश्वास नहीं कर पा रहे हैं. ऑस्कर की मां रमीरेज ने बताया कि पहले उनका बेटा एक पिज्जा की दुकान में काम करता था. अमेरिका जाने  की कोशिश से पहले ऑस्कर ने अपनी पत्नी तानिया और बेटी वेलेरिया के साथ दो महीने मेक्सिको में बिताए.

दो महीने तक प्रवासियों के शिविर में रहने के बाद वे लोग काफी परेशान हो गए और अपनी किस्मत आजमाने अमेरिकी सीमा की ओर बढ़ने लगे. इसके बाद 23 जून को वह रियो ग्रांडे  नदी तक पहुंचे. असुरक्षा के डर से तानिया मेक्सिको के छोर पर ही रुक गई, फिर उसके बाद जो हुआ उसने पूरी दुनिया को सहमा दिया. तानिया का पति और उनकी बेटी नदी में डूब कर अपनी जान गंवा बैठे.

______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay |

एए/एके (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन