इसे कहते हैं टीम वर्क | खेल | DW | 21.06.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

खेल

इसे कहते हैं टीम वर्क

डेनमार्क के सारे खिलाड़ियों ने पैसे जमा किए. फिर एक प्राइवेट जेट बुक लिया और अपने साथी को दो दिन के लिए परिवार के साथ खुशी मनाने के लिए भेज दिया.

डेनमार्क की टीम के डिफेंडर योनास क्नुसन के घर में एक बिटिया का जन्म हुआ. बच्ची का जन्म समय से पहले हो गया. 16 जून को पेरु के खिलाफ पहला मैच जीतने के बाद योनास को बेटी के जन्म की खबर मिली. जीत की खुशी में झूम रही टीम ने जब योनास को देखा तो उनके चेहरे पर घर की याद दिखाई दी.

इसके बाद पूरी टीम ने पैसा जमा किया और योनास को एक प्राइवेट जेट से घर भेजने का फैसला किया. डेनमार्क के गोलकीपर कास्पर श्माइकेल के मुताबिक, "मुझे लगता है कि आपको हमेशा यह याद रखना चाहिए कि हम फुटबॉलर होने के साथ साथ इंसान भी हैं. एक पिता होने के नाते मैं समझ सकता हूं कि उस संदेश के आने के बाद योनास के लिए घर पर मौजूद न रहना कितना मुश्किल होता."

डेनमार्क की टीम की इस एकजुटता की दुनिया भर में तारीफ हो रही है. श्माइकेल कहते हैं, "टीम में ऐसे कई खिलाड़ी हैं जो पिता भी हैं. हम चाहते थे कि मानवीय पक्ष को देखा जाए और उसे अपनी बेटी को देखने का मौका देने के लिए जो मुमकिन हो, वह किया जाए."

प्राइवेट जेट से घर पहुंचे योनास आखिरकार अपनी नवजात बेटी से मिल पाए. परिवार के साथ 48 घंटे बिताने के बाद योनास वापस रूस लौट आए. उन्होंने 18 जून को टीम के अभ्यास सत्र में हिस्सा लिया.

पेरु के खिलाफ 1-0 से जीतने वाली डैनिश टीम को अगला मैच ऑस्ट्रेलिया से खेलना है. टीम की पूरी कोशिश है कि दूसरी जीत योनास की बेटी के नाम की जाए.

(चैरिटी एड फाउंडेशन चैरिटीज हर साल सबसे ज्यादा दान और समाजिक गतिविधियों में खूब समय खर्च करने वाले देशों की सूची बनाती है. देखिये सूची में कौन कौन शुमार है.)

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स)

 

DW.COM

संबंधित सामग्री