इराक में एक और सामूहिक कब्र मिली | ताना बाना | DW | 11.11.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इराक में एक और सामूहिक कब्र मिली

इस्लामिक स्टेट को खदेड़ने के बाद इराकी फौज जब दक्षिणी मोसुल पहुंची तो सबकी आंखें फटी रह गई. सफाई के दौरान वहां सामूहिक कब्र मिली.

दक्षिण मोसुल जीतने के बाद इराकी सेना ने बुल्डोजर मंगाए. सेना लड़ाई के चलते मलबे में बदल चुके अवशेषों को हटाना चाहती थी. लेकिन बुल्डोजर चलते ही जमीन के नीचे से बड़ी संख्या में इंसानी हड्डियां निकलने लगीं. धीरे धीरे कपड़ों के चिथड़े, कूड़े के बैग और इंसानी अवशेष बाहर निकलने लगे.

अधिकारियों के मुताबिक करीब 100 लोगों के अवशेष मिले हैं. अधिकारियों को शक है कि इस्लामिक स्टेट ने यहां लोगों को बर्बरता से मारा और फिर जमीन में एक साथ दफना दिया. 2014 में नए नए इलाकों को कब्जे में लेने के दौरान इस्लामिक स्टेट ने कई शहरों में बड़ी संख्या में लोगों को मौत के घाट उतारा और शव सामूहिक कब्र में डाल दिये.

सामूहिक कब्र मामले में की जांच कर रहे अधिकारी हैदर मजीद के मुताबिक अभी यह साफ नहीं हुआ है कि मृतक कौन थे. सामूहिक कब्र से कुछ खिलौने भी मिले हैं. आशंका है कि आईएस ने बच्चों को भी नहीं बख्शा.

जेनेवा में यूएन के ह्यूमन राइट्स ऑफिस के मुताबिक इसी इलाके में इस्लामिक स्टेट ने इराकी पुलिस के 50 जवानों की हत्या की थी.  यूएन मानवाधिकार संगठन की प्रवक्ता रवीना शमदसानी के मुताबिक, "हमारे पास ऐसी रिपोर्टें हैं कि इराकी पुलिस के 50 पूर्व अधिकारियों को मोसुल के बाहर एक इमारत में मारा गया. यह इमारत कृषि कॉलेज की है जहां फिलहाल ये सामूहिक कब्रें मिली हैं."

यूएन के मुताबिक बीते हफ्ते भी इस्लामिक स्टेट ने सुरक्षा बलों के 295 पूर्व जवानों को अगवा किया. पश्चिमोत्तर इराक के तल अफर गांव से अगवा किये गए इन लोगों का अब तक कोई सुराग नहीं मिला है. सिंजर जिले से भी 30 शेखों को अगवा करने की रिपोर्टें आई हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक उनमें से आधों की हत्या कर दी गई है.

इराकी फौज और कुर्द लड़ाके अब मोसुल के बाहरी इलाकों की तरफ बढ़ रहे हैं. शहर से 13 किलोमीटर दूर बसा बाशिका नाम का कस्बा अब भी आईएस के नियंत्रण में है. अमेरिका की अगुवाई में हो रही बमबारी के बीच जमीन पर मोर्टार और ऑटोमैटिक हथियारों से लड़ाई चल रही है.

विरोधियों को डराने के लिए इस्लामिक स्टेट ने कई जगहों पर सरेआम लोगों को कत्ल किया. आतंकी संगठन ने डर फैलाने के लिए इसके वीडियो भी सार्वजनिक किये. जांचकर्ताओं को अंदेशा है कि अब सामूहिक कब्रों में मारे गए लोग के अवशेष मिल रहे हैं.

ओएसजे/एमजे (एपी, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री