इतिहास में आजः 3 जनवरी | ताना बाना | DW | 03.01.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आजः 3 जनवरी

3 जनवरी 1993 को रूसी राष्ट्रपति बोरिस येल्त्सिन और अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने अपने परमाणु जखीरे के दो तिहाई हिस्सों को नष्ट करने कि लिए स्टार्ट 2 संधि पर हस्ताक्षर किए थे.

आज ही के दिन अमेरिका और रूस ने रणनीतिक आक्रामक परमाणु हथियारों को सीमित करने संबंधी संधि (स्ट्रैटेजिक आर्म्स रिडक्शन ट्रिटी) यानी स्टार्ट 2 पर हस्ताक्षर किए थे. इस संधि के अंतर्गत मॉस्को और वॉशिंगटन ने अपने अपने परमाणु हथियारों की संख्या में कमी करके उन्हें तीन से साढ़े तीन हजार के स्तर तक करना था. इस संधि का अनुमोदन करने में ही कई साल लग गए.

अमेरिकी सीनेट ने 1996 में समझौते को पारित किया तो रूसी संसद डूमा ने इस संधि पर हस्ताक्षर होने के सात साल बाद इसका अनुमोदन किया. हालांकि बहुत से जानकारों का मानना है कि स्टार्ट दो संधि कभी लागू ही नहीं हो पाई क्योंकि ऐसा होता तो अमेरिका अपनी मिसाइल प्रतिरक्षा प्रणाली तैयार करने की योजना नहीं बनाता.

स्टार्ट दो संधि के बाद 2002 में रणनीतिक आक्रामक हथियारों में कटौती संबंधी मॉस्को संधि पर अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच हस्ताक्षर किए गए थे. इसके बाद साल 2010 में स्टार्ट 3 संधि पर हस्ताक्षर किए गए. स्टार्ट-3 संधि पर हस्ताक्षर दिमित्री मेदवेदेव और बराक ओबामा ने किए थे.

DW.COM