इतिहास में आजः 27 जुलाई | ताना बाना | DW | 26.07.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आजः 27 जुलाई

पोस्ट इम्प्रेशनिस्ट चित्रकार विंसेंट फान गॉग रंगीन चित्रों, कला में भावना और खूबसूरती के लिए विख्यात थे. उनका 20 वीं सदी की चित्रकला पर बहुत प्रभाव था. आज ही के दिन उन्होंने खुद को गोली मारी थी.

नीदरलैंड्स का ये कलाकार दर्द, बेचैनी और मानसिक बीमारी के कारण 37 साल की उम्र में ही खत्म हो गया. उनके सिर में गोली से हुए घाव के कारण उनकी मौत हुई. उन्होंने आत्महत्या की या क्या हुआ इस बारे में कोई कुछ साफ नहीं बता सका क्योंकि पुलिस को कोई बंदूक कभी बरामद नहीं हुई. 29 जुलाई 1890 के दिन उनकी मौत हुई.

उस समय उनके चित्रों को कोई नहीं जानता था. बच्चे के तौर पर उन्होंने जो चित्र बनाना शुरू किया तो वे हमेशा इसी दिशा में आगे चलते रहे. उनके सबसे मशहूर चित्र उनके आखिरी दो साल में बने हैं. एक दशक में ही उन्होंने 2,100 पेंटिंग्स बना दी थी. उनमें 860 ऑइल, 1,300 वॉटर कलर, ड्रॉइंग, स्कैच और प्रिंट थे. उनके कामों में सेल्फ पोट्रेट के अलावा लैंडस्केप, स्टिल लाइफ, पोट्रेट्स शामिल हैं. सूर्यमुखी के फूलों की उनकी तस्वीरें बहुत मशहूर हैं. 1885 में उन्होंने पोटेटो ईटर्न नाम की पेटिंग बनाई जो बाद में बहुत मशहूर हुई.

DW.COM

विज्ञापन