इंटरनेट पर भुलाए जाने का अधिकार | दुनिया | DW | 14.05.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इंटरनेट पर भुलाए जाने का अधिकार

इंटरनेट पर अपनी तस्वीर या कोई और सूचना डालना किसे अच्छा नहीं लगता. पर बाद में जब अपनी किसी भूल का अहसास हो और किसी सूचना को मिटाना चाहें तो यह असंभव है. इंटरनेट कभी भूलता नहीं. लेकिन ऐसा सिर्फ अब तक था.

सर्वोच्च यूरोपीय अदालत ने फैसला किया है कि यूरोपीय नागरिकों को इंटरनेट में भुलाए जाने का अधिकार है. लक्जेमबर्ग में दिए गए फैसले में कहा गया है कि सर्च इंजन चलाने वाली कंपनियों को आवेदन दिए जाने के बाद खोज के उन नतीजों को मिटाना होगा जो आवेदक के व्यक्तित्व के अधिकार का हनन करते हों.

ऑपरेटर की जिम्मेदारी

यह फैसला एक स्पेनी नागरिक की अपील पर आया है जिसके बारे में स्पेन के एक अखबार ने खबर दी थी. यह खबर सामाजिक बीमा कंपनी में बकाये की वजह से एक जमीन की नीलामी के बारे में थी. अखबार ने यह खबर इंटरनेट पर डाल दी थी. स्पेनी नागरिक का कहना है कि यह मामला कब का सुलझ चुका है. उसने गूगल से मांग की कि उसके नाम के साथ जुड़े इस लिंक को खत्म कर दे. गूगल स्पेन ने यह कहकर मना कर दिया कि सर्च इंजन गूगल अमेरिका चलाता है. स्पेनी अदालतों ने मामले को यूरोपीय अदालत को सौंप दिया.

यूरोपीय अदालत का कहना है कि इंटरनेट यूजर सर्च इंजन में कोई नाम डालकर उस व्यक्ति के बारे में पूरी जानकारी हासिल कर सकता है. इसकी वजह यह है कि गूगल व्यवस्थित तरीके से जानकारी पढ़ता है, उसे सेव करता और उसे जमा रखता है. इसे अदालत ने निजी सूचना इकट्ठा करना और उसका प्रसार करना बताया है. इसकी वजह से इस मामले पर यूरोपीय संघ का डाटा सुरक्षा नियम लागू होगा.

अदालत के अनुसार डाटा जमा करने के लिए सर्च इंजन ऑपरेटर जिम्मेदार है. अदालत ने अमेरिकी कंपनी की यह दलील नहीं मानी कि डाटा प्रोसेसिंग यूरोपीय संघ से बाहर होती है. स्पेन में एक शाखा होना अदालती कार्रवाई के लिए काफी है. भविष्य आवेदन पाने के बाद सर्च इंजन ऑपरेटर को यह जांच करनी होगी कि क्या कोई लिंक आवेदनकर्ता के व्यक्तित्व के अधिकार का हनन करता है. यदि ऑपरेटर लिंक को मिटाने से मना करता है तो आवेदनकर्ता को अदालत में अपील करने का अधिकार होगा.

फैसले का स्वागत

जर्मनी के कानून मंत्री हाइको मास ने यूरोपीय अदालत के फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने कहा कि अदालत ने साफ कर दिया है कि उस देश का डाटा सुरक्षा कानून लागू होगा जिसमें वह उद्यम बाजार में है. अब अंतरराष्ट्रीय कंपनियां यह कहकर बच नहीं सकती कि डाटा प्रोसेसिंग कहीं और हो रही है. ग्रीन पार्टी के सांसद कोंसटांटिन फॉन नोत्स ने कहा कि अदालत ने सूचना समाज में मौलिक अधिकारों और निजता की सुरक्षा की अपनी इच्छा पर जोर दिया है. यूरोपीय आयोग की एक प्रवक्ता ने फैसले को अच्छी खबर बताया.

इसके विपरीत गूगल ने अदालत के सर्वोच्च यूरोपीय अदालत के फैसले पर अफसोस व्यक्त किया है. एक प्रवक्ता ने ब्रसेल्स में कहा कि फैसले के नतीजों का आकलन करने में वक्त लगेगा. जर्मनी के कम्प्यूटर उद्योग के संगठन बिटकॉम ने भी फैसले की आलोचना की है. बिटकॉम के प्रमुख बैरहार्ड रोलेडर ने कहा कि सूचना का खुला प्रवाह इंटरनेट की उपलब्धि है जिसे अदालत अब आंशिक रूप से सामाप्त करना चाहती है.

यूरोपीय अदालत का ताजा फैसला सिर्फ सर्च इंजन में खबरों के लिंक को मिटाने के बारे में है खबर को इंटरनेट से हटाने के बारे में नहीं. स्पेनी अदालत ने खबर को हटाने के लिए अखबार के खिलाफ किए गए मुकदमे को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हवाला देकर खारिज कर दिया था.

एमजे/आईबी (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री