इंग्लैंड ने हथियाया क्रिकेट वर्ल्ड कप | दुनिया | DW | 14.07.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

इंग्लैंड ने हथियाया क्रिकेट वर्ल्ड कप

इंग्लैंड ने रोमांचक फाइनल में अपना पहला क्रिकेट वर्ल्ड कप जीता. रेगुलर और सुपर ओवर में मैच के ड्रॉ रहने के बाद फैसला चौकों के आधार पर हुआ.

इंग्लैंड ने एक रोमांचक फाइनल में न्यूजीलैंड को हराकर अपना पहला क्रिकेट वर्ल्ड कप खिताब जीत लिया. रेगुलर मैच के बराबरी पर खत्म होने के बाद फैसला सुपर ओवर में छह बॉलों की प्रतिस्पर्धा के बाद हुआ. इंग्लैंड ने पहली बार विश्व कप जीता है. वह चौथी बार फाइनल में पहुंची थी. आईसीसी विश्व कप-2019 का फाइनल मुकाबला रविवार को लॉडर्स मैदान पर खेला गया. यह विश्व कप का पहला फाइनल है जो सुपर ओवर में गया है. 

न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में आठ विकेट के नुकसान पर 241 रन बनाए थे. इंग्लैंड की टीम भी 50वें ओवर की आखिरी गेंद पर अपने सभी विकेट खोकर 241 रन बना पाई. इस वजह से यह मैच सुपर ओवर में गया. सुपर ओवर में इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड के सामने 16 रनों की चुनौती रखी. सुपर ओवर में भी मैच टाई रहा और इंग्लैंड को ज्यादा बाउंड्रीज मारने के कारण विजेता घोषित किया गया.

इंग्लैंड के लिए इस मैच में सबसे ज्यादा रन बेन स्टोक्स ने बनाए. उन्होंने 98 गेंदों पर पांच चौके और दो छक्कों की मदद से नाबाद 84 रन बनाए. जोस बटलर ने 59 रन बनाए. टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला करने वाली कीवी टीम के लिए हेनरी निकोलस ने अर्धशतक जमाया जिसकी बदौलत कीवी टीम 50 ओवरों में आठ विकेट खोकर 241 रन बना सकी. निकोलस ने 77 गेंदों का सामना कर चार चौकों की मदद से 55 रनों की पारी खेली. टॉम लाथम ने 47 और कप्तान केन विलियम्सन ने 30 रनों का योगदान दिया. इंग्लैंड के लिए क्रिस वोक्स और लियाम प्लकंट ने तीन-तीन विकेट लिए.

नहीं टूटा सचिन का 16 साल पुराना रिकॉर्ड

इस साल के आईसीसी विश्व कप में एक समय ऐसा लग रहा था कि विश्व कप के किसी एक संस्करण में सर्वाधिक रन बनाने का भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर का 16 साल पुराना रिकॉर्ड टूट जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. फाइनल में न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन और इंग्लैंड के जो रूट सचिन के बनाए रिकॉर्ड को तोड़ सकते थे. लेकिन, दोनों सस्ते में पवेलियन लौट गए और सचिन का रिकॉर्ड बदस्तूर कायम है. सचिन के नाम विश्व कप के किसी एक संस्करण में सबसे अधिक 673 रन बनाने का रिकॉर्ड है. इस रिकॉर्ड को तोड़ने के लिए विलियम्सन को 126 रन और बनाने थे, लेकिन वह लॉर्डस के ऐतिहासिक मैदान पर हुए फाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ मात्र 30 रन ही बना सके. विलियम्सन के नाम इस विश्व कप में 10 मैचों से 578 रन रहे.

सचिन तेंडुलकर ने 2003 विश्व कप में 11 मैचों की 11 पारियों में 61.18 की औसत से कुल 673 रन बनाए थे. इसमें छह अर्धशतक और एक शतक शामिल था. सचिन का सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर 152 रन रहा था. उनके रिकॉर्ड को तोड़ने के लिए जो रूट को 125 रन और बनाने थे, लेकिन वह फाइनल में मात्र सात रन ही बना सके. रूट के नाम इस विश्व कप में 556 रन रहा. मौजूदा विश्व कप में भारत के रोहित शर्मा ने सबसे अधिक 648 रन बनाए.

आरकेएस/एमजे (आईएएनएस)

 

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

 

पहले मैच टाई फिर सुपर ओवर टाई और फिर जीत गया इंग्लैंड

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन