′आयशा′ पर टिकी हैं सोनम की उम्मीदें | लाइफस्टाइल | DW | 06.08.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

लाइफस्टाइल

'आयशा' पर टिकी हैं सोनम की उम्मीदें

जेन ऑस्टिन के उपन्यास 'एमा' पर आधारित हिंदी फिल्म 'आयशा' में मुख्य भूमिका निभाने वालीं सोनम कपूर को उम्मीद है कि यह फिल्म दर्शकों को बेहद पसंद आएगी. राजश्री ओझा के निर्देशन में बनी 'आयशा' शुक्रवार को रिलीज हुई.

आयशा बनीं सोनम

आयशा बनीं सोनम

फिल्म का एक दिलचस्प पहलू यह है कि इस फिल्म की निर्माता हैं सोनम की छोटी बहन रिया कपूर. अपनी फिल्म के प्रमोशन के सिलसिले में कोलकाता आईं सोनम और रिया ने एक-दूसरे की शान में जमकर कसीदे पढ़े.

सोनम बताती हैं कि यह एक रोमांटिक कॉमेडी है. फिल्‍म आयशा नाम की एक लड़की की कहानी है. वह एक ऐसी लड़की है जिसे हर किसी की निजी जिंदगी में दखल देना पसंद है और वह चाहती है कि सब उसके अनुसार चलें. आयशा एक धनी और अल्हड़ युवती है. वह अपनी जिंदगी को सबसे बेहतर मानती है. उसकी राय में सबकी जिंदगी ऐसी ही होनी चाहिए.

Sonam Kapoor

इस फिल्म में पहली बार सोनम और अभय देओल की जोड़ी पर्दे पर नजर आएगी. फिल्म में आयशा की मुलाकात अर्जुन नाम के लड़के से होती है जो आयशा की आदतों बिलकुल पसंद नहीं करता. पिंकी, शेफाली, रणबीर और ध्रुव आयशा के सबसे अच्छे दोस्त हैं. आयशा को उम्‍मीद है कि सभी दोस्‍त उसके कहने के मुताबिक ही चलेंगे. लेकिन अर्जुन आयशा के इस खेल से परेशान है.

फिल्म के सेट पर निर्माता बहन रिया के साथ केमिस्ट्री कैसी रही, इस सवाल पर सोनम मुस्कुरा देती हैं. वह कहती हैं, "रिया काम के मामले बेहद कुशल हैं. वह हर काम में माहिर हैं. लेकिन उनके साथ एक ही कमरे में रहना बड़ा मुश्किल है."

और रिया अपनी बहन सोनम को किस नजर से देखती हैं? वह कहती है, "आयशा का किरदार सोनम से काफी मिलता-जुलता है. सोनम के साथ काम करने का अनुभव बहुत अच्छा रहा. वह अपनी मुस्कान के साथ कुछ भी कर सकती है. वह काफी साहसी लड़की है. सोनम आप पर भरोसा करती है. वह बहुत शांत मिजाज वाली लड़की है."

सोनम बताती हैं कि यह फिल्म भले जेन ऑस्टिन के उपन्यास पर आधारित है, लेकिन मौजूदा दौर और भारतीय समाज को ध्यान में रखते हुए इसे अलग तरीके से बनाया गया है.

सोनम अब बांग्ला फिल्में भी करना चाहती हैं. वह कहती है, "मेरे ज्यादातर पसंदीदा निर्देशक बंगाली हैं. उनमें से विमल राय तो मुझे पसंद हैं." सोनम को अपर्णा सेन और सत्यजित राय की फिल्में भी पसंद हैं.

वह कहती हैं कि अगर बढ़िया स्क्रिप्ट मिले तो वह बांग्ला फिल्मों में काम करने के लिए तैयार हैं. सोनम को बांग्ला नहीं आती लेकिन इसके लिए वह बांग्ला सीखने को भी तैयार हैं.

रिपोर्टः प्रभाकर, कोलकाता

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links

विज्ञापन