आगरा में ताज का दीदार करने के बाद अब दिल्ली पहुंचे ट्रंप | दुनिया | DW | 24.02.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

आगरा में ताज का दीदार करने के बाद अब दिल्ली पहुंचे ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप भारत में शानदार स्वागत से अभिभूत हैं. अहमदाबाद के बाद डॉनल्ड ट्रंप ने ताज महल देखने के लिए फर्स्टलेडी के साथ आगरा का रुख किया.

डॉनल्ड ट्रंप कभी अटलांटिक शहर न्यूजर्सी में ताज महल नाम के एक कसीनों के मालिक थे. मगर सोमवार को उन्होंने सचमुच के ताज का दीदार किया. 17वीं सदी के इस मकबरे को देखने के बाद ट्रंप ने एक पत्रकार से कहा कि यह "अतुलनीय जगह" है. फर्स्टलेडी मेलानिया ट्रंप के साथ सफेद संगमरमर के मकबरे पर जब ट्रंप पहुंचे, तो पश्चिम की तरफ सूरज ढल रहा था.

इससे पहले आगरा के लिए उड़ान भरते हुए एयरफोर्स वन में ट्रंप ने पत्रकारों से कहा कि वे यूनेस्को की इस विरासत पर पहले कभी नहीं आए हैं. एयरपोर्ट से ताजमहल तक के पूरे रास्ते में लोग हाथों में भारत और अमेरिका के छोटे छोटे झंडे लेकर सड़कों के किनारे ट्रंप का स्वागत करने के लिए खड़े थे. जगह जगह ट्रंप के बड़े बड़े कटाआउट भी लगावाए गए. आगरा एयरपोर्ट पर स्थानीय कलाकारों ने उनका मयूर नृत्य से स्वागत किया और उन पर फूलों की वर्षा की.

इससे पहले अहमदाबाद में भी डॉनल्ड ट्रंप का भव्य स्वागत किया गया. यहां के मोटेरा स्टेडियम में करीब सवा लाख लोग ट्रंप का स्वागत करने पहुंचे थे. ट्रंप यह सब देख कर अभिभूत हैं. हालांकि वे पहले से ही कहते आ रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके स्वागत में लाखों लोगों को जमा करने का वादा किया है. अमेरिकी राष्ट्रपति शाम को दिल्ली पहुंच गए हैं. इस बीच दिल्ली में विवादित नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध तेज हो गया है और हिंसक झड़पों में एक पुलिस कांस्टेबल की मौत हो गई है.

मंगलवार को सुबह 10 बजे डॉनल्ड ट्रंप का भारत के राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत होगा. इसके बाद वह राजघाट पर महात्मा गांधी की समाधि पर जाएंगे. इसके बाद उनका हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री से मुलाकात का कार्यक्रम है, जिसके बाद दोनों नेता संयुक्त प्रेसवार्ता को संबोधित करेंगे. शाम को राष्ट्रपति ट्रंप की भारत के राष्ट्रपति से मुलाकात होनी है जिसके बाद रात 10 बजे वे वापस अमेरिका के लिए रवाना हो जाएंगे.

बहरहाल इन तमाम सत्कारों के बीच विश्लेषक यह माथापच्ची करने में जुटे हैं कि दोनों नेताओं की बातचीत से क्या निकल कर आएगा. ट्रंप ने अहमदाबाद के भाषण में एक जगह यह भी कहा कि पाकिस्तान के साथ अमेरिका पाकिस्तानी सीमा पर इस्लामिक आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई में सहयोग कर रहा है. ट्रंप ने यह भी कहा कि दोनों देशों के अच्छे रिश्ते हैं. विश्लेषक ट्रंप के इस बयान का भी मतलब निकालने की कोशिश में हैं.

भारत ने कश्मीर के मामले में ट्रंप की मध्यस्थता की पेशकश ठुकरा दी थी. अमेरिका में भारत की कश्मीर की नाकेबंदी के लिए आलोचना होती है. एक अमेरिकी अधिकारी का कहना है कि ट्रंप इस दौरे पर भारत में धार्मिक आजादी का मसला उठा सकते हैं जो ट्रंप प्रशासन के लिए बेहद अहम है. 

ट्रंप ने अपने भाषण में भारत को सैनिक साजो सामान की बिक्री की बात कही है. इसमें हैलीकॉप्टर भी शामिल हैं. भारत और अमेरिका फिलहाल दोनों चीन से चिंतित हैं और इस दौरे पर दोनों देश कई रक्षा समझौतों पर दस्तखत कर सकते हैं. इसके साथ ही भारत को छह न्यूक्लियर रिएक्टर की सप्लाई पर भी बातचीत होनी है.

ट्रंप ने यह भी कहा कि वह मोदी के साथ एक कारोबारी समझौते पर काम कर रहे हैं. हालांकि उम्मीद की जा रही है कि विस्तृत समझौते की बजाय भारत हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिल और अमेरिकी डेयरी उत्पादों पर आयात शुल्क में कुछ छूट दे सकता है. कुछ महीने पहले ट्रंप ने भारत के स्टील और एल्युमिनियम पर आयात शुल्क लगा दिया था जिसके जवाब में भारत ने भी बादाम जैसी अमेरिकी चीजों पर आयात शुल्क बढ़ाया.

एनआर/आईबी (एएफपी, एपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन