आखिरकार ब्रिटेन और यूरोपीय संघ में ब्रेक्जिट पर हो गई डील | दुनिया | DW | 17.10.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

आखिरकार ब्रिटेन और यूरोपीय संघ में ब्रेक्जिट पर हो गई डील

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने यूरोपीय संघ और ब्रिटेन के बीच एक नई "ब्रेक्जिट" डील का एलान किया है. उन्होंने ब्रिटेन के सांसदों से अनुरोध किया है कि वो संसद में शनिवार को वोटिंग में इस नई डील को मंजूरी दे दें.

ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से अलग होने के लिए इसी महीने की 31 तारीख को आखिरी समय सीमा तय की गई थी. यूरोपीय संघ और ब्रिटेन के वार्ताकारों के बीच इस मुद्दे पर कई दौर की बातचीत के बाद ब्रेक्जिट की रूपरेखा पर सहमति बनी है. हालांकि इसे अभी यूरोपीय संघ के सदस्यों और संबंधित संसदों से पास कराना होगा. सबसे पहले बुरी तरह विभाजित ब्रिटेन के संसद के अनुमोदन की जरूरत होगी.

ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया है, "हमने एक नया करार हासिल किया है जिसके हाथ में नियंत्रण होगा. अब शनिवार को संसद को ब्रेक्जिट की मंजूरी दे देनी चाहिए ताकि हम रहन सहन के खर्चे, एनएचएस, हिंसक अपराध और पर्यावरण जैसी दूसरी प्राथमिकताओं की तरफ बढ़ सकें." शनिवार को ब्रिटिश संसद का विशेष सत्र बुलाया गया है.

यूरोपीय आयोग के प्रमुख जाँ क्लोद युंकर ने ट्वीट किया है, "जहां चाह है वहां डील है, हमारे पास एक है, यह ईयू और यूके के लिए उचित और संतुलित है और यह समाधान खोजने की हमारी प्रतिबद्धता की कसौटी है."

युंकर का कहना है कि वह यूरोपीय देशों के 27 सदस्य देशों के आज ही दोपहर बाद होने जा रहे सम्मेलन में इस करार की पुष्टि करने के लिए कहेंगे. दो दिन की यह बैठक आज दोपहर बाद ब्रसेल्स में शुरू होगी. बैठक में ब्रेक्जिट पर ब्रिटेन के साथ हो रहे बातचीत के अलावा उत्तरपूर्वी सीरिया में तुर्की का हमला भी चर्चा के मुख्य बिंदुओं में शामिल होगा.

हालांकि जिस उत्साह और तेजी के साथ ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने डील होने की बात कही उतनी ही तेजी से आयरलैंड ने कह दिया कि आयरिश सीमा की प्रतिबद्धताओं के कारण वह इस डील का समर्थन नहीं करेगा. जॉनसन को इस डील के आगे बढ़ाने के लिए ज्यादा से ज्यादा समर्थन की जरूरत होगी जबकि हालत यह है कि संसद पूरी तरह से विभाजित है. ब्रिटेन की संसद पहले ही तीन बार डील को नकार चुकी है. 


तकनीकी वार्ताकारों ने कस्टम और बिक्री कर के नियमों को उचित बनाने के लिए बहुत मेहनत की है साथ ही उत्तरी आयरलैंड और आयरलैंड के साथ व्यापार के नियमों को भी. यह अकेली जगह है जहां ब्रिटेन की जमीनी सीमा यूरोप से मिलती है. 
ब्रेक्जिट की अटकी प्रक्रिया के बीच कई महीनों से निराश और हताश दिख रहे यूरोपीय नेता इस हफ्ते थोड़े उत्साह में दिख रहे हैं. फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल माक्रों ने बुधवार को कहा, "मैं यकीन करना चाहता हूं कि करार को अंतिम रूप दे दिया जाएगा." जबकि जर्मन चांसलर अंगेला मैर्कल ने कहा कि बातचीत, "अपने आखिरी दौर में है." गुरुवार को डील के एलान ने इन दोनों नेताओ की उम्मीदों को सच कर दिया.
खबर आने के बाद ब्रिटिश मुद्रा पाउंड की कीमत डॉलर के मुकाबले बीते पांच महीने के सबसे ऊंचे स्तर पर चली गई है. 
इसी साल जुलाई में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बने बोरिस जॉनसन ने वादा किया था कि पहले से तय तारीख यानी 31 अक्टूबर को ब्रिटेन यूरोपीय संघ से बाहर हो जाएगा चाहे इसका कुछ भी नतीजा हो. जॉनसन ने ब्रेक्जिट की तुलना माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई से की थी. 
बोरिस जॉनसन के लिए अभी इम्तिहान बाकी है. उन्हें उत्तरी आयरलैंड की डेमोक्रैटिक यूनियनिस्ट पार्टी का समर्थन हासिल करना होगा. डीयूपी की नेता आर्लेन फोस्टर और पार्टी के संसदीय दल के नेता नाइजेल डॉड्स का कहना है, "कस्टम और विवादित मुद्दों पर जो सलाह दी जा रही है उसका समर्थन नहीं कर सकते." पार्टी का कहना है कि प्रोविजनल डील की घोषणा के बाद भी उनकी स्थिति में परिवर्तन नहीं आया है.  




एनआर/एमजे(डीपीए, एपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM