अमेरिका में 50 हजार लोगों की मौत के बीच तालाबंदी में ढील शुरू | दुनिया | DW | 25.04.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

अमेरिका में 50 हजार लोगों की मौत के बीच तालाबंदी में ढील शुरू

अमेरिका में कोरोना वायरस की चपेट में आ कर मरने वालों की तादाद 50 हजार को पार कर गई है. बावजूद इसके कुछ राज्यों ने तालाबंदी में छूट देनी शुरू कर दी है. एशिया और यूरोप में भी पाबंदियां हट रही हैं.

अमेरिका के अलास्का, ओकलाहोमा और जॉर्जिया ने तालाबंदी की शर्तों में छूट देनी शुरू कर दी है ताकि व्यापार को सामान्य करने की दिशा में बढ़ा जा सके. स्वास्थ्य सुरक्षा से जुड़े विशेषज्ञ हालांकि इसके खिलाफ चेतावनी दे रहे हैं.

जॉर्जिया और ओकलाहोमा के रिपब्लिकन गवर्नरों ने सैलून, स्पा को खोलने की अनुमति दे दी है जबकि अलास्का में रेस्तरां खोले जा रहे हैं. इसके साथ ही दुकानों और दूसरी व्यापारिक गतिविधियों को भी शर्तों के साथ खोला जा रहा है. हालांकि अलास्का की कुछ नगरपालिकाओं ने कड़ाई लागू रखने का फैसला किया है.

शुक्रवार को व्हाइट हाउस की प्रेस ब्रीफिंग में राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने अर्थव्यवस्था के बारे में उम्मीद भरी बातें कही. हालांकि इसके साथ ही लोगों से उन्होंने सामाजिक दूरी बनाने और चेहरे पर मास्क लगाने को भी कहा. शुक्रवार को ही राष्ट्रपति ने अस्पतालों और नियोक्ताओं की मदद के लिए 484 अरब डॉलर के राहत पैकेज पर दस्तखत किए. बीते पांच हफ्तों में यहां 2.6 करोड़ लोगों ने बेरोजगारी भत्ते की मांग की है. फिलहाल अमेरिकी कामगारों में हर छठा आदमी बेरोजगार है.

दुनिया भर में कोरोनावायरस के कारण अब तक 1,90,000 लोगों की मौत हुई है. इसमें अकेले अमेरिका में ही 50,000 लोग मारे गए हैं. ये आंकड़े जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के हैं और माना जा रहा है कि असल संख्या इसे कहीं ज्यादा हो सकती है.

इस बीच अमेरिका में अब भी बड़े पैमाने पर टेस्ट नहीं होने की बात कही जा रही है. 33 करोड़ की आबादी वाले अमेरिका में महज 47 लाख लोगों का कोविड 19 के लिए टेस्ट किया गया है. हॉर्वर्ड यूनिवर्सिटी के रिसर्चरों का कहना है कि अर्थव्यवस्था को खोलने से पहले हर रोज कम से कम पांच लाख या उससे ज्यादा लोगों का टेस्ट करने की जरूरत है.

मिशिगन में डेमोक्रैटिक गवर्नर ग्रेशेन व्हिटमार ने घर में रहने के आदेश को 15 मई तक बढ़ा दिया है. हालांकि इसी बीच कुछ व्यापारिक गतिविधियों को छूट देने का एलान किया गया है. लोगों को गोल्फ खेलने या फिर मोटरबोट की सवारी करने की भी छूट दे दी गई है. मिशिगन में कोविड 19 के कारण करीब 3000 लोगों की मौत हुई है. उससे आगे सिर्फ न्यूयॉर्क और न्यू जर्सी हैं.

न्यू यॉर्क में शुक्रवार को 422 लोगों की मौत हुई जो 31 मार्च के बाद सबसे कम संख्या है. 31 मार्च को यहां 391 लोगों की मौत हुई थी और अब तक 16,000 से ज्यादा लोग मर चुके हैं.

एशिया के ज्यादातर इलाके में वायरस के फैलाव की रफ्तार धीरे धीरे कम हो रही है. चीन में पिछले साल इस वायरस की सबसे पहले पुष्टि हुई थी. शनिवार को चीन के अधिकारियों ने बताया कि बीते 10 दिनों में वहां वायरस के कारण कोई मौत नहीं हुई है. इतने दिनों में वहां संक्रमण के कुल 12 मामलों की पुष्टि हुई जिनमें 11 देश के बाहर से आए थे.

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के मुताबिक, रूस से लगती सीमा पर उत्तर पश्चिमी प्रांत में सिर्फ एक स्थानीय मामला इतने दिनों में आया है. चीन में कोविड 19 से पीड़ित अब केवल 838 लोग अस्पताल में भर्ती हैं. इनके अलावा 1,000 दूसरे लोगों को क्वारंटीन में रखा गया है.इन लोगों के वायरस या फिर वायरस पीड़ितों के संपर्क में आने का संदेह है. चीन में वायरस के कारण कुल 4,632 लोगों की मौत हुई है.

दक्षिण कोरिया में 10 नए मामले सामने आए हैं. लगातार पिछले आठ दिनों से वहां हर दिन बढ़ने वाले संक्रमित लोगों की संख्या 20 के नीचे रही है. बीते दो दिनों से वहां कोई मौत नहीं हुई है.

भारत में अब तक 775 लोगों की मौत हुई है और कुल मामले 24,500 है. वहां भी दुकानों को खोलने की अनुमति दे दी गई है.

यूरोप में फ्रांस की सरकार ने परिवारों को यह तय करने का हक दे दिया है कि वो अपने बच्चों को घर में रखें या फिर स्कूल भेजें. यहां 17 मार्च से लॉकडाउन है. 11 मई से इसे धीरे धीरे हटाया जाएगा.

जर्मनी में भी बड़ी दुकानों को खोलने की अनुमति दे दी गई है. सोमवार से यहां 800 वर्गमीटर से बड़ी हर तरह की दुकानें खुल जाएंगी. इन दुकानों में जाने के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा.

बेल्जियम ने भी एलान किया है कि 3 मई के बाद अस्पताल धीरे धीरे दूसरे रोगियों के लिए भी खुलेंगे. इसके साथ ही कपड़े की दुकानों को भी खोलने की छूट मिल जाएगी. डेनमार्क ने भी छोटे बच्चों के स्कूल खोलने का एलान किया है जबकि स्पेन में मां बाप फैसला करेंगे कि वो बच्चों को कब बाहर भेजें. रविवार से यहां भी तालाबंदी में छूट दी जा रही है.

ब्रिटेन ने फिलहाल तालाबंदी के नियमों में बदलाव नहीं करने का फैसला किया है. यहां मरने वालों की तादाद 20 हजार के करीब पहुंच गई है. यूरोप में इटली, स्पेन और फ्रांस के बाद सबसे ज्यादा लोग ब्रिटेन में ही मरे हैं.

एनआर/सीके(एपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन