अमेरिका ने माना ईरान के हमले में 109 सिपाही हुए थे घायल | दुनिया | DW | 11.02.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

अमेरिका ने माना ईरान के हमले में 109 सिपाही हुए थे घायल

पेंटागन ने माना है कि पिछले महीने इराक के अल-असद हवाई ठिकाने पर ईरान के हमले में 100 से भी ज्यादा अमेरिकी सिपाहियों को सदमा पहुंचाने वाली दिमागी चोट पहुंची थी.

इराक के अल-असद हवाई ठिकाने पर ईरान के हमले के एक महीने बाद अमेरिका ने माना है कि उस हमले में उसके 100 से भी ज्यादा सिपाही घायल हुए थे. अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि 109 सिपाहियों को सदमा पहुंचाने वाली दिमागी चोट पहुंची है. एक सप्ताह पहले तक इस तरह की चोट के इलाज के लिए भर्ती हुए सैनिकों की संख्या सिर्फ 64 थी.

पेंटागन ने हमले के एक हफ्ते बाद चोटों के बारे में जानकारी देना शुरू किया था. तब से लेकर अभी तक आंकड़ों में लगातार वृद्धि ही देखी गई है. पेंटागन के अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि इन आंकड़ों में अभी और बदलाव होंगे.

मंत्रालय ने कहा कि इनमें से 76 सैनिक काम पर वापस लौट चुके हैं, जब कि 26 सैनिकों का जर्मनी या अमेरिका में इलाज चल रहा है. सात और सैनिक इराक से जर्मनी जा रहे हैं, जहां उनका निरीक्षण होगा और फिर इलाज शुरू होगा.

USA Washington | Mark Esper, Verteidigungsminister (picture-alliance/dpa/divids)

अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर

रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने पेंटागन में पत्रकारों को एक हफ्ते से भी पहले बताया था कि मंत्रालय युद्ध के मैदान में दिमागी चोटों से बचने के और रोगों की पहचान और इलाज के तरीकों का अध्ययन कर रहा है. जॉइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष जनरल मार्क मिल्ली ने कहा था कि ये भी संभव है कि ईरानी मिसाइल हमले से हुई दिमागी चोट के लक्षण एक या दो साल तक दिखाई न दें. उन्होंने कहा कि सेना रोग की पहचान और सैनिकों के लिए इलाज के शुरुआती दौर में है. 

10 फरवरी को दिए एक वक्तव्य में, पेंटागन के प्रेस सचिव अलीसा फारा ने डॉक्टरों और मेडिकल कर्मचारियों की सराहना की. फारा ने कहा कि इन लोगों ने जो इलाज किया "उसी की बदौलत लगभग 70 प्रतिशत घायल सिपाही काम पर वापस जा पाए हैं. हमें शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों पर एक साथ ध्यान देते रहना चाहिए."

सीके/आरपी (एपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन