1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
बॉल के लिए हैर्था और ब्राउनश्वाइग का संघर्षतस्वीर: picture-alliance/dpa

अब भी बचा है बुंडेसलीगा में मजा

२८ अप्रैल २०१४

भले ही जर्मन लीग फुटबॉल के विजेता का फैसला हफ्तों पहले हो चुका हो लेकिन इसमें मजा अभी भी बचा है. मजा इस बात में है कि सबसे नीचे कौन सी टीम रहेगी.

https://p.dw.com/p/1BqPv

नीचे की दो टीमों को प्रमुख लीग यानि बुंडेसलीगा छोड़ कर दूसरे श्रेणी की लीग में जाना पड़ता है. अंक तालिका में कुल 18 टीमें होती हैं. सोलहवें नंबर की टीम को प्रतियोगिता में बने रहने के लिए क्वालिफाइंग खेलना होता है. लेकिन इस बार नीचे की तीन टीमों में अंकों का फासला सिर्फ एक अंक का है. ऐसे में एक जीत हार किसी भी टीम के लिए प्रतियोगिता में बने रहने या बाहर जाने का फैसला कर सकती है.

फिलहाल सबसे नीचे चल रही आइनट्राख्ट ब्राउनश्वाइग के 25 अंक हैं. वह न्यूरेम्बर्ग से सिर्फ एक अंक पीछे है, जबकि न्यूरेम्बर्ग 16वें नंबर पर चल रही हैम्बर्ग की टीम से एक अंक पीछे है. बायर्न म्यूनिख 84 अंकों के साथ चैंपियन बन चुका है. उसने आखिरी मैच में माइंस को 5-2 से हराया, जो चैंपियंस लीग में रियाल मैड्रिड के खिलाफ उसकी तैयारी के मैच के रूप में देखा जा रहा है.

Fußball Bundesliga 32. Spieltag FC Augsburg - Hamburger SV am 27.04.2014
हैम्बर्ग के गोलकीपर रेने आडलरतस्वीर: picture-alliance/dpa

ब्राउनश्वाइग के स्पोर्ट्स निदेशक मार्क आरनॉल्ड का कहना है, "यह पक्का है कि हैम्बर्ग और न्यूरेम्बर्ग असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. यह हमारे लिए बढ़त लेने जैसा है." लेकिन समीकरण यह है कि अगर हैम्बर्ग और न्यूरेम्बर्ग हार भी जाते हैं, तो भी ब्राउनश्वाइग को अपनी हार पर अंकुश लगाना होता है. वर्ना तीनों की हार के साथ नतीजा फिर वहीं पहुंच जाएगा. जहां तक मैचों का सवाल है, सबसे आसान मैच ब्राउनश्वाइग के हैं, जिसे ऑग्सबुर्ग और हॉफेनहाइम से खेलना है. हालांकि इस सीजन में अपने स्टेडियम से बाहर वह सिर्फ एक मैच ही जीत पाए हैं.

ब्राउनश्वाइग के लिए रेलीगेट होकर बाहर हो जाने या जर्मन लीग में बने रहने का दारोमदार स्ट्राइकर डोमी कुंबेला पर निर्भर करता है, जिन्होंने इस सीजन में नौ गोल किए हैं. टीम के किसी दूसरे खिलाड़ी ने तीन से ज्यादा गोल नहीं किए हैं.

एजेए/एमजे (डीपीए)

संबंधित सामग्री को स्किप करें

संबंधित सामग्री

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

Indien | Kinderehe

असम सरकार का बाल विवाह के खिलाफ बड़ा अभियान

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं