अब जाहिर नहीं होंगे महारानी के राज | लाइफस्टाइल | DW | 20.01.2011
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

लाइफस्टाइल

अब जाहिर नहीं होंगे महारानी के राज

महल की चारदीवारी के भीतर जो होता है, वह वहीं दफन हो जाता है. पुराने जमाने की इस बात को ब्रिटेन ने अपने संविधान का हिस्सा बना लिया है. अब ब्रिटेन के महल के राज बाहर नहीं लाए जा सकेंगे.

default

ब्रिटेन में नए नियम बनाए गए हैं जिनका मकसद शाही परिवार के राज की रक्षा करना है. नए कानून के मुताबिक महारानी एलिजाबेथ, प्रिंस विलियम्स और प्रिंस चार्ल्स को सूचना कानूनों के दायरे से बाहर कर दिया गया है. इसका मतलब होगा कि उनकी निजी जानकारियों को दशकों तक सार्वजनिक नहीं किया जा सकेगा.

Buckingham Palace London Kalenderblatt

पहले नियम कुछ इस तरह के थे कि अगर कोई शाही जानकारी सार्वजनिक हित में हो तो उसे उजागर किया जा सकता है.

नए नियम बुधवार से लागू हो गए. सरकार की तरफ से कहा गया है कि ये नियम राजनेताओं और अधिकारियों से शाही परिवार की निजी बातचीत को गुप्त रखेंगे. लेकिन देश में ऐसे लोग भी कम नहीं हैं जो नए नियमों से नाराज हैं. सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि इस नियम से शाही परिवार की जवाबदेही और मुश्किल हो जाएगी जबकि उस पर जनता का अरबों रुपया खर्चा होता है.

सूचना के अधिकार के तहत शाही परिवार की जानकारियों को कई बार उजागर किया गया है. काफी लोग महल की चारदीवारी में होने वाली बातों को जानने के लिए इस अधिकार का इस्तेमाल करते हैं. कई बार इन जानकारियों ने विवाद भी खड़े किए. मसलन एक बार पता चला कि महारानी ने महल को गरम रखने के लिए बिल भरने के वास्ते एक फंड से धन निकालने का आग्रह किया. यह फंड गरीब घरों के लिए बनाया गया था.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links

विज्ञापन