अधेड़ औरतों का सहारा बना सेक्सटिंग | दुनिया | DW | 06.12.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

अधेड़ औरतों का सहारा बना सेक्सटिंग

मोबाइल से लोगों को टेक्स्ट मैसेज भेजना आम है, लेकिन अब यूजर सेक्सटिंग भी कर रहे हैं. सेक्सटिंग मतलब सेक्स के बारे में संदेश भेज कर चर्चा करना. मेक्सिको में अब महिला अधिकार संगठन लोगों को सेक्सटिंग की जानकारी दे रहे हैं.

मेक्सिको की 43 साल की महिला मेरिट्रिनी एगुइलर शादीशुदा है और दो बच्चों के परिवार में हंसी खुशी जी रही हैं. लेकिन खुशी का कारण महज उनका परिवार ही नहीं है बल्कि एक ऐसा समूह भी है जो इन्हें खुद को खुलकर व्यक्त करने का मौका देता है. दरअसल एगुइलर सेक्सटिंग करती है. सेक्सटिंग का मतलब है एसएमएस के जरिए सेक्स के बारे में चर्चा करना.

यूजर बताते हैं कि सेक्सटिंग महिलाओं को उनकी अपनी यौन आकांक्षाओं को समझने का मौका देता है. इसमें लोग बातचीत के अलावा एक-दूसरे को कामुक तस्वीरें भी भेजते हैं. एगुइलर इस समूह का हिस्सा बन कर खुश है. वह कहती हैं, "सेक्सटिंग मुझे अपनी अंदर की झिझक को दूर करने का मौका देता है और मुझे सुरक्षित महसूस कराता है. यह मुझे सामने वाले इंसान को खुश करके खुश होने का अनुभव देता है."

हाल में एगुइलर ने मेक्सिको में सात दूसरी महिलाओं के साथ सेक्सटिंग पर एक वर्कशॉप में भी हिस्सा लिया था. वर्कशॉप में बताया गया था कि कैसे सेक्सटिंग का ठीक ढंग से इस्तेमाल किया जाना चाहिए. मेक्सिको में सरकार के सहयोग से महिला अधिकारों के लिए काम करने वाले समूह ल्युचाडोरस ने यह वर्कशॉप आयोजित किया था. इसमें लोगों को सेक्सटिंग के प्रति जागरुक किया गया. उन्हें बताया गया कि सेक्सटिंग एक तरह से अभिव्यक्ति का माध्यम है. ऐसा माध्यम जहां लोग सेक्स जैसे विषयों पर खुलकर बोल सकते हैं साथ ही इसके खतरे को भी समझ सकते हैं. 

सेक्सटिंग की यूजर एगुइलर कहती हैं कि उन्होंने अभी तक इसके बारे में किसी को नहीं बताया है. लेकिन 43 साल की एगुइलर को इसके इस्तेमाल पर गर्व महसूस होता है. उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि मेरे दोस्त भी इसका इस्तेमाल करते हैं लेकिन वे इसे मानेंगे नहीं. उन्हें लगता है कि यह जवान महिलाओं के लिए हैं. ना कि दो बच्चों की मां और एक शादीशुदा औरत के लिए."

एगुइलर कहती हैं कि वर्कशॉप के बाद वह खुद को सशक्त महसूस करने लगी हैं. वह कहती है, "वर्कशॉप में हमने समझा कि सब समान है और हम सब के पास कुछ न कुछ साझा करने के लिए है. समझने के लिए है. सबमें कामुकता है और हर कोई इसे समझ सकता है."

सेक्स और तकनीक

एगुइलर से उलट तकनीक और सेक्स को महिलाओं के लिए खतरनाक मानने वाले भी कम नहीं है. जानकार कहते हैं कि अंतरंग संदेश और तस्वीरों के लीक होने के पहले कई मामले सामने आए हैं. इसके लिए एक शब्द रखा गया 'रिवेंज पोर्न.' मतलब ऐसा पोर्न जिसे बदले लेने की भावना के तहत बनाया गया. दुनिया में अमेरिका, ब्रिटेन, जापान समेत कई देशों ने इसके खिलाफ कानून भी बनाए हैं. वहीं हैकरों की भी पहुंच अब लोगों के फोन और इनबॉक्स तक हो गई है, जो सेक्सटिंग के लिए एक खतरा हो सकता है.

मेक्सिको में समाज पुरुष प्रधान है. यहां मर्दानगी जताने का लंबा इतिहास रहा है और महिलाओं के खिलाफ हिंसा के मामले यहां सामने आते रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों मुताबिक मेक्सिको में हर दिन सात महिलाओं की हत्या की जाती है. ऐसी स्थिति में सेक्सटिंग के महिलाओं के खिलाफ इस्तेमाल होने की भी आशंका है. 

'अपनी खुशी बढ़ाएं'

सेक्सटिंग की वर्कशॉप में शामिल होने वाली 17 साल की गिसेला रुबियो कहती हैं, "सेक्सटिंग वास्तव में अच्छा है, क्योंकि यह कोई भी कर सकता है. इसमें गर्भावस्था या यौन संक्रमित बीमारियों का कोई खतरा नहीं होता और आप अपनी यौन आंकक्षाओं के दायरे को बढ़ाते हैं." गिसेला अब सेक्सटिंग पर अपना शोध पत्र लिख रही है. वह कहती है कि अगर सेक्सटिंग गलत हो जाती है तो महिलाओं के लिए खतरा बन जाता है. 

सेक्सटिंग की वर्कशॉप में महिलाओं को साइबर सुरक्षा से लेकर सेक्सिटंग प्लेटफॉर्म के बेहतर इस्तेमाल की बातें बताई गईं हैं. वहीं सेक्सटिंग के सक्रिय यूजर कहते हैं कि आज समाज में सेक्स से जुड़े टैबू को खत्म करने की जरूरत है, खासकर महिलाओं के लिए जिन्हें अपनी यौन आकांक्षाओं को समझने और उसे पूरा करने का हक है.

एए/एनआर (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन