1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

भुक्खड़ बना देती है शराब: स्टडी

लंदन के फ्रांसिस क्रिक इंस्टिट्यूट के शोधकर्ताओं की एक रिपोर्ट के मुताबिक शराब भूख बढ़ाने वाली मस्तिष्क की कोशिकाओं को सक्रिय कर देती है.

क्या आपने महसूस किया है कि शराब पीने के बाद फ्रेंच फ्राइज या पिज्जा जैसे ज्यादा कैलरी वाले खाने के लिए तड़प ज्यादा होती है? एक शोध के मुताबिक शराब मस्तिष्क को यह सोचने के लिए मजबूर करती है कि आप भूखे हैं. शराब पीने के बाद चर्बी बढ़ाने वाला खाना धरती पर जन्नत सा नजर आता है.

चूहों पर किये गए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि शराब सेवन के बाद मस्तिष्क में एक खास तरह की कोशिकाएं सक्रिय हो जाती हैं. ये वही कोशिकाएं हैं जो उस वक्त भी सक्रिय रहती हैं जब आपको भूख का अहसास होता है और आप खाने पर टूट पड़ते हैं.

सारा केन्स और उनकी टीम ने नेचर कम्यूनिकेशन नाम की पत्रिका में  अपने एक लेख में कहा है कि हमारे डेटा के मुताबिक शराब शरीर में भूख के मूल तत्व को बनाए रखती है. शोधकर्ताओं ने बताया कि तीन दिनों तक चूहों को ईथेनॉल-पानी का घोल दिया गया. इसमें प्रतिदिन शराब की मात्रा उतनी ही थी जितनी कि एक आदमी में करीब डेढ़ बोतल शराब पीने के बाद होती होगी.

यह भी देखिए, शराोब से होते हैं ये 7 तरह के कैंसर

शराबी चूहे साबित हुए भुक्खड़

शोधकर्ताओं ने पाया कि चूहों को ज्यादा भूख लगी. उन्होंने उन दिनों 10 से 25 फीसदी अधिक खाना खाया जब उन्हें ईथेनॉल दिया गया. केन्स और उनके साथियों ने चूहों के मस्तिष्क को शराब के साथ भी परखा और देखा कि दिमाग में पाई जाने वाली पेप्टाइड कोशिकाएं ज्यादा सक्रिय हैं. लेकिन जब इन कोशिकाओं को एक रसायन की मदद से बंद कर दिया गया तो इन चूहों ने पहले की तरह व्यवहार नहीं किया और शराब ने इन्हें अधिक खाने के लिए नहीं उकसाया. शोधकर्ताओं के मुताबिक चूहों के मस्तिष्क में होने वाली ये प्रक्रिया मानव मस्तिष्क में भी ठीक वैसे ही काम करती होगी.

तस्वीरों में: किस नशे से कितना खतरा

हैम्बर्ग यूनिवर्सिटी में सेंटर ऑफ इन्टर्डिसप्लेनरी अडिक्शन रिसर्च (जेडआईएस) के प्रमुख जेंस रिमर के मुताबिक शोधकर्ता काफी लंबे समय से इस बात को मानते आए हैं कि शराब, व्यक्ति के खान-पान को प्रभावित करती है. कुछ शोध बताते हैं शराब की अधिक मात्रा लोगों के आत्मनियंत्रण को प्रभावित करती है और लोग खाने से जुड़ी आदतों को भूल जाते हैं. राइमर के मुताबिक इस स्टडी ने मस्तिष्क के न्यूरोनॉल क्षेत्र की पहचान की है जो व्यवहार को नियंत्रण करती है. इसलिए बेहतर होगा कि अब अच्छे से खाना खा लेने के बाद ही शराब का सेवन किया जाए.

ब्रिगिटे ओस्टेराथ/एए

DW.COM