1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

एक MMS ने ली महिला की जान

इटली में एक महिला की आत्महत्या ने प्राइवेसी को लेकर नई बहस छेड़ दी है. ये महिला कई महीनों से अपने एक सेक्स वीडियो को इंटरनेट से हटवाने के लिए संघर्ष कर रही थी.

31 साल की तिजियाना मंगलवार को दक्षिणी इटली में नेपल्स के नजदीक मुगनानो में अपनी एक आंटी के घर में लटकी पाई गई. एक साल पहले की बात है जब इस महिला ने सेक्स करते हुए अपना एक वीडियो कुछ दोस्तों को भेजा. इन लोगों में तिजियाना का पूर्व बॉयफ्रेंड भी था जिसे वो जलाना चाहती थी.

लेकिन यह वीडियो किसी ने इंटरनेट पर डाल दिया. देखते ही देखते यह वायरल हो गया और इंटरनेट पर तिजियाना का मजाक उड़ने लगा. इस वीडियो को इंटरनेट पर लगभग दस लाख लोगों ने देखा. शर्मिंदगी से बचने के लिए तिजियाना ने अपनी नौकरी छोड़ दी, टस्कनी में रहने लगी और अपना नाम बदलने की कोशिश भी की, लेकिन मुश्किलों ने उसका पीछा नहीं छोड़ा.

देखिए, आपके दिमाग के साथ क्या करता है पोर्न

वीडियो में उसे अपने प्रेमी से ये कहते हुए दिखाया गया है, 'तुम इसे फिल्मा रहे है? ब्रावो.' ये लाइन ना सिर्फ इंटरनेट पर एक मजाक बन गई बल्कि टी-शर्ट, स्मार्टफोन के कवर और अन्य चीजों पर भी इसे छापा गया.

लंबी अदालती लड़ाई के बाद तिजियाना के हक में फैसला देते हुए जज ने कहा कि वीडियो को फेसबुक समेत अलग अलग वेबसाइटों और सर्च इंजनों से हटा दिया जाए. लेकिन तिजियाना से कानूनी लागत के तौर पर 20 हजार यूरो का भुगतान करने को कहा गया. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक ये 'अंतिम अपमान' था जिसके बाद तिजियाना के सामने अपनी जान लेने के अलावा कोई और रास्ता नहीं था.

नेपल्स के एक अखबार ने गुरुवार को लिखा, "क्यों अब भी ये तस्वीरें मौजूद हैं? क्यों अब भी लोग इस युवती का मजाक उड़ा सकते हैं जिनसे शर्मिंदगी के कारण अपनी जिंदगी खत्म कर दी है?"

जर्मनी में टीवी टाइम बढ़ा, सेक्स घटा

नेपल्स के अभियोजकों ने 'आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला' दर्ज किया है, लेकिन जजों के लिए ये तय करना मुश्किल होगा कि वे कौन से कारण थे जिनकी वजह से तिजियाना ने अपनी जान लेने का कदम उठाया. खबरें हैं कि इस मामले में चार लोगों से पूछताछ हो रही है. ये वही चार लोग हैं जिन्हें तिजियाना ने अपना वीडियो भेजा था. तिजियाना के परिवार ने इंसाफ मांगा है. इतालवी मीडिया में उनके हवाले से कहा गया है, "हम चाहते हैं कि न्यायिक व्यवस्था ऐसे कदम उठाए कि ये मौत बेकार न जाए."

एके/वीके (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री