1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमेरिका के रिचर्ड थालेर को अर्थशास्त्र का नोबेल

अमेरिकी अर्थशास्त्री रिचर्ड थालेर को इस साल अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा. रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंस के अनुसार व्यवहारगत अर्थशास्त्र में उनके योगदान के लिए उन्हें यह सम्मान मिलेगा.

स्वीडिश एकेडमी ने थालेर के नाम का एलान करते हुए कहा, "कुल मिलाकर रिचर्ड थालेर ने अर्थशास्त्र और फैसले लेने के व्यक्तिगत मानसिक विश्लेषण के बीच पुल तैयार किया है." पुरस्कार के तहत उन्हें 90 लाख स्वीडिश क्रोनर दिये जाएंगे.

थालेर ने पुरस्कार जीतने पर खुशी का इजहार किया है. जब उनसे पूछा गया कि वह 90 लाख क्रोनर की धनराशि को कैसे खर्च करेंगे तो उन्होंने कहा कि उनके शोध का एक क्षेत्र मेंटल अकाउंटिंग भी है. "इसलिए मैं शिकागो के एक बढ़िया अर्थशास्त्री के रूप में आपके सवाल का जबाव नहीं दे पाऊंगा." उन्होंने मजाकिया अंदाज में कहा, "कोशिश होगी कि जितना बेतुके तरीके से खर्च कर पाऊंगा, करूंगा."

स्वीडिश एकेडमी का कहना है कि शिकागो यूनिवर्सिटी के थालेर के योगदान ने तीन बातों को मनोवैज्ञानिक खासियतों को ध्यान में रखते हुए आर्थिक विश्लेषण को विस्तार दिया है. ये खासियतें हैं सीमित तार्किता, निष्पक्षता को लेकर धारणा और आत्म नियंत्रण की कमी. 

अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार बाकी पुरस्कारों से थोड़ा अलग है क्योंकि इसकी रचना अल्फ्रेड नोबेल ने नहीं की थी. नोबेल ने अपनी वसीयत में केवल भौतिकी, रसायन, चिकित्सा, शांति और साहित्य के लिए ही नोबेल पुरस्कार देने की बात कही थी. स्वीडेन के सेंट्रल बैंक ने 1968 में अल्फ्रेड नोबेल की याद में अर्थशास्त्र के लिए पुरस्कारों की शुरूआत की. इसके लिए विजेता का चुनाव भी हर साल नोबेल कमेटी ही करती है.

एके/एनआर (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री