1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

यूपी में चुनाव: अमीर से अमीर और गरीब से गरीब उम्मीदवार

उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में कई रंग देखने को मिल रहे हैं. कई उम्मीदवारों के पास जहां हाथी, घोड़े और करोड़ों की संपत्ति है, वहीं कई उम्मीदवार बेहद गरीब हैं.

गोरखपुर की पिपरायीच विधान सभा की निर्दलीय उम्मीदवार अनीता जायसवाल चर्चा में हैं. कारण हैं उन्होंने अपनी संपत्ति में दो हाथी और एक घोडा भी दिखाया हैं. शपथ पत्र के अनुसार अनीता के पति जवाहर जायसवाल के पास दो हाथी, एक घोडा इसके अलावा तीन हथियार हैं. जिनमे रिवाल्वर, बन्दूक और रायफल शामिल हैं. इन सबकी कीमत लगभग 2.26 करोड़ रुपये हैं.

आजकल हाथी पालना तो मात्र एक मुहावरा रह गया हैं. अब हाथी कौन पालता हैं. लेकिन अनीता ने पाल रखे हैं और अब से नहीं, 1995 से. गोरखपुर के स्थानीय लोगों के अनुसार अनीता के घर पर लगभग 100 गाय और इतनी ही बकरियां भी हैं.  उन्होंने बहुत सारे खरगोश भी पालें हैं.  लोगों के अनुसार अनीता के ये हाथी स्थानीय लोगो के यहाँ शादी बारात में भी जाते हैं.

अनीता और उनके पति के पास तरह तरह की 15 गाड़ियाँ भी हैं. इनमें अनीता का एक ट्रैक्टर, एक हार्वेस्टर और एक इंडिका कार है. वहीं उनके पति के पास एक जीप, एक सफारी, तीन पिकप वैन, एक जिप्सी, तीन ट्रैक्टर, दो टोयोटा फोर्चुनर और एक बस भी हैं. बीएचयू से स्नातक अनीता ने अपना पेशा कृषि और व्यवसाय बताया हैं.

 कुछ उम्मीदवार ऐसे भी हैं जो बहुत नीचे से उठकर ऊपर तक गए हैं. इन्हीं में से एक हैं योगेश कुमार जो मथुरा विधान सभा से बसपा के उम्मीदवार हैं. आज योगेश कुमार के नौ बैंक अकाउंट हैं, चार चौपहिया वाहन हैं, नौ करोड़ की कृषि भूमि हैं लेकिन वो हमेशा अमीर नहीं थे. स्थानीय लोगों के अनुसार योगेश पहले एक होटल में काम करते थे. 1995 में उसी होटल में बसपा नेता कांशीराम और तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती आये थे और योगेश ने उनकी आवभगत की थी. उसके बाद योगेश बसपा के नेता बने और पिछले लोकसभा में हेमा मालिनी के खिलाफ भी चुनाव लडे थे.

उन्नाव जनपद की बांगरमऊ से सपा के विधायक बदलू खान पहले लेखपाल थे. 2012 में विधायक बने और आज चार ईट भट्टों में पार्टनर और एक गेस्ट हाउस में भी हिस्सेदार हैं. आज उन्होंने अपनी अचल संपत्ति 1.77 करोड़ रुपये की दर्शायी हैं.

सीतापुर जनपद की लहरपुर सीट से बसपा विधायक जासमीर अंसारी पहले चाय का होटल चलाते थे. उनके मित्र आसिफ जाफरी के अनुसार पहले जासमीर अगर एक दिन में 10 किलो दूध की चाय बेच लेते थे तो बहुत आराम से सोते थे कि आज अच्छी दुकानदारी हुई. अब उनकी पत्नी के पास फोर्ड एंडेवर गाडी हैं.  दोनों पति पत्नी के पास लगभग 30 लाख की अचल संपत्ति है. जासमीर के पास एक रिवाल्वर है और एशियाई प्लाईवुड फर्म में शेयर धारक हैं.

हर कोई अमीर ही नहीं हैं कुछ उम्मीदवार वाकई में बहुत गरीब हैं. बहराइच की बलहा सुरक्षित विधान सभा सीट के उम्मीदवार बंसीधर बौद्ध अभी अखिलेश सरकार में मंत्री हैं लेकिन आज भी उनके पास घर के नाम पर झोपडी हैं. अभी भी वो खुद भैंस दुह कर मिलने आये लोगो को चाय पिलाते हैं, खेत जोतते हैं तो गनर मेंड़ पर खड़ा रहता हैं. कभी बंसीधर खुद मजदूर थे, परिवार खेत में शौच के लिए जाता था और नेपाल बॉर्डर पर अपने गाँव में रहते हैं. खुद अखिलेश यादव ने गर्व से एक फंक्शन में कहा था कि मेरा मंत्री आज भी झोपडी में रहता है.

गाजीपुर जनपद में ज़हूराबाद सीट से सपा के उम्मीदवार महेंद्र चौहान के पास संपत्ति के नाम पर एक पुरानी मोटरसाइकिल हैं. न घर है, न जेवर, कार, न ज़मीन, न कोई बिल्डिंग और न ही किसी जगह निवेश किया है. यहीं नहीं आज भी उनके पिता साइकिल पंक्चर रिपेयरिंग करते हैं.

इनमे किसकी किस्मत चमकती है और कौन जनता का प्रतिनिधि चुना जाता हैं ये तो 11 मार्च को ही पता चलेगा.

 

DW.COM

संबंधित सामग्री