1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ब्रिटेन में संसद त्रिशंकु, टेरीजा मे को झटका

ब्रिटेन में आम चुनाव के नतीजों से त्रिशंकु संसद सामने आयी है. प्रधानमंत्री टेरीजा मे की कंजरवेटिव पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी है, लेकिन वह 326 सीटों के बहुमत के आंकड़े से दूर है.

ब्रिटिश संसद के निचले सदन हाउस ऑफ कॉमन्स की कुल 650 सीटों में से अब तक 640 के नतीजे सामने आये हैं. ताजा परिणामों के मुताबिक कंजरवेटिव पार्टी को 312, विपक्षी लेबर पार्टी को 259, लिबरल डेमोक्रेट्स को 12, स्कॉटिश नेशनल पार्टी को 34 और ग्रीन पार्टी को एक सीट मिली है. 22 सीटें अन्य उम्मीदवारों के खाते में गई है जबकि दक्षिणपंथी यूके इंडेपेंडेंट पार्टी खाता भी नहीं खोल पायी है.

इन चुनाव नतीजों को ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरीजा मे के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. उन्होंने अप्रैल में इस उम्मीद में चुनाव कराने की घोषणा की थी कि उन्हें जबरदस्त बहुमत मिलेगा और ब्रेक्जिट वार्ताओं को वह मजबूती से आगे बढ़ायेंगी.

लेबर पार्टी के नेता जेरमी कोर्बिन ने मे का इस्तीफा मांगा है. उन्होंने कहा कि मे को हट जाना चाहिए ताकि "ऐसी सरकार के लिए रास्ता तैयार हो सके जो इस देश का सच्चा प्रतिनिधित्व करती हो." लेकिन मे ने कहा, "इस समय इस देश को सबसे ज्यादा जिस चीज की जरूरत है वह स्थिरता है." उनके मुताबिक, "और जैसे संकेत मिल रहे हैं और अगर ये सही है कि कंजरवेटिव पार्टी ने ज्यादातर सीटें और सबसे ज्यादा वोट हासिल किए हैं, तो यह हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम स्थिरता को सुनिश्चित करें."

मे ने अप्रैल में आम चुनाव कराने की घोषणा की थी. उस वक्त सर्वेक्षणों में उनकी कंजरवेटिव पार्टी की लोकप्रियता आसमान छू रही थी. लेकिन हाल के दिनों में पहले मैनचेस्टर और फिर लंदन में हुये आतंकवादी हमलों ने उनकी मुश्किलें बढ़ा दीं. प्रधानमंत्री बनने से पहले छह साल तक ब्रिटेन की गृहमंत्री के तौर पर उनके कार्यकाल पर सवाल उठ रहे हैं. उन पर ऐसे कदम उठाने के आरोप लग रहे हैं जिन्होंने एक सुरक्षित जगह के तौर पर ब्रिटेन की छवि को नुकसान पहुंचाया है.

एके/एमजे (डीपीए, रॉयटर्स)

संबंधित सामग्री