1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

डॉनल्ड ट्रंप के पहले भाषण के मायने

अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने फिर से देश को महान बनाने के वादे के साथ शपथ ली है. अपने शपथ ग्रहण के बाद एक भाषण में उन्होंने कहा कि अब के बाद अमेरिका फर्स्ट ही उनका नारा होगा.

राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने अपने पहले भाषण में देश की मौजूदा तस्वीर ऐसी खींची की कोई भी डर जाए. उन्होंने दिखाया कि देश जल रहा है, सड़ रहा है, नष्ट हो रहा है और वह इसे बचाने के लिए आए हैं. ट्रंप ने कहा कि फैक्ट्रियां जंग खा रही हैं और अपराध, गैंग नशीली दवाएं देश को खोखला कर रही हैं. अपने पूर्ववर्तियों में से किसी का नाम तो ट्रंप ने नहीं लिया लेकिन उन्होंने यह जताया कि उनके पहले के राष्ट्रपतियों ने देश का बुरा हाल कर दिया है, जिसे वह ठीक करने आए हैं. नेशनल मॉल पर जमा लाखों लोगों से उन्होंने कहा, "इस पल से हमेशा अमेरिका प्रथम होगा."

इस मौके पर चार पूर्व राष्ट्रपति मौजूद थे. इनमें तीन डेमोक्रैट थे और एक रिपब्लिकन. इनकी मौजूदगी में ट्रंप ने कहा कि अब और सर्वनाश नहीं होगा. ट्रंप ने कहा, "व्यापार, कर, प्रवासन या विदेश मामले, अब जो भी फैसला लिया जाएगा, अमेरिकी परिवारों और कामगारों को ध्यान में रखकर लिया जाएगा." उन्होंने कहा, "सर्वनाश अब बंद होता है."

देखिए, अमेरिका के नामी प्रथम बच्चे

70 वर्षीय ट्रंप जब अमेरिका की सत्ता संभाल रहे हैं तब देश का समाज दो हिस्सों में बंटा हुआ है. इस विभाजन में उनके चुनाव प्रचार का बड़ा हाथ है. न्यू यॉर्क के धनी व्यापारी और पूर्व रियलिटी टीवी स्टार डॉनल्ड ट्रंप ने कहा कि वह देश को घरेलू और विदेशी मोर्चों पर एक नये रास्ते पर लेकर जाएंगे.

ट्रंप का पहला भाषण उन्हीं मुद्दों पर आधारित जो वह चुनाव प्रचार के दौरान उठाते रहे हैं. उन्होंने कहा कि हम एक दूसरे के प्रति अपनी निष्ठाओं को फिर से बनाएंगे और नया राष्ट्रगौरव स्थापित करेंगे जो दरारों को पाटेगा. इस्लामिक आतंकवाद पर उन्होंने दो टूक कहा कि इसे खत्म करना है. और ज्यादा आक्रामक रवैये के संकेत देते हुए उन्होंने कहा, "हम पुराने गठबंधनों को मजबूत करेंगे, नये गठबंधन बनाएंगे और इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ एक सभ्य दुनिया तैयार करेंगे, जो दुनिया से इस्लामिक आतंकवाद का समूल नाश कर देगी."

तस्वीरों में, शपथ ग्रहण समारोह

35 शब्दों की अपनी शपथ के बाद ट्रंप ने लगभग 16 मिनट का भाषण दिया. उनके भाषण में राष्ट्रीयता से जुड़े जज्बात को उभारने की कोशिश बार बार नजर आई. उन्होंने कहा कि हम अब तक अपने उद्योगों की कीमत पर विदेशी उद्योगों को आगे बढ़ाते रहे, अपनी सुरक्षा को खतरे में डालकर विदेशों की सुरक्षा करते रहे, अपनी सेना की कीमत पर विदेशी सेनाओं को मजबूत करते रहे, लेकिन अब यह सब बंद होगा.

ट्रंप के आने से उनकी रिपब्लिकन पार्टी को उम्मीद है कि ओबामा के किये कई कामों को फौरी तौर पर बंद कर दिया जाएगा. इनमें ओबामा के स्वास्थ्य सुधार भी शामिल हैं जिन्हें ओबामाकेयर के नाम से जाना जाता है. साथ ही कर सुधारों की भी संभावना है. ट्रंप के वरिष्ठ सलाहकार केलयाने कॉनवे ने फॉक्स न्यूज को बताया, "वह तुरंत ही पूरी व्यवस्था को हिला देंगे."

वीके/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री