1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पुतिन की खातिर ट्रंप ने अमेरिका पर ही सवाल उठाए

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की कई बार तारीफ कर चुके हैं. एक हालिया इंटरव्यू में तो ट्रंप ने पुतिन का बचाव करने के लिए खुद अमेरिका पर सवाल उठा दिए.

फॉक्स न्यूज के बिल ओ'रेइली के साथ इंटरव्यू में ट्रंप ने कहा, "मैं बहुत सारे लोगों का सम्मान करता हूं, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि मेरी उनसे बनती ही है." ट्रंप ने कहा, "वह एक देश के नेता हैं. मैं कहता हूं कि रूस का साथ लेना अच्छा है. अगर रूस आईएसआईस और इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में हमारी मदद करता है तो यह अच्छी बात है."

ट्रंप रूस के साथ बेहतर अमेरिकी संबंधों के पक्षधर रहे हैं. वह कई बार पुतिन की तारीफ कर चुके हैं. पुतिन ने भी ट्रंप को "बहुत प्रतिभाशाली" व्यक्ति बताया है.

पिछले हफ्ते ही ट्रंप ने उन ताजा अमेरिकी प्रतिबंधों की समीक्षा की, जो अमेरिकी कंपनियों के रूस में अपने चीजें निर्यात करने से रोकते हैं. ओबामा प्रशासन ने 29 दिसंबर को रूस के खिलाफ नये प्रतिबंध लगाए थे. अमेरिकी एजेंसियों की तरफ से राष्ट्रपति चुनाव में रूस के दखल की बात कहे जाने के बाद ये प्रतिबंध लगाए गए थे.

देखिए पुतिन के अलग अलग चेहरे

इंटरव्यू के दौरान ट्रंप ने  ओ'रेइली की इस बात को खारिज कर दिया कि "पुतिन हत्यारे" हैं. उन्होंने कहा, "हमारे यहां भी बहुत से हत्यारे हैं... आपको लगता है कि हमारा देश इतना निर्दोष है? जरा देखिए तो सही, हमने क्या किया है. हमने इतनी सारी गलतियां की हैं."

इस बीच, रूस की सरकार ने फॉक्स न्यूज से कहा है कि पुतिन को हत्यारा बताने के लिए वह माफी मांगे. पुतिन के बारे में ओ'रेइली की टिप्पणी को रूस ने "अस्वीकार्य और आक्रामक" बताया है. पुतिन के प्रवक्ता दिमित्री पेश्कोव ने बताया, "हम फॉक्स न्यूज जैसी प्रतिष्ठित कंपनी की तरफ ऐसे शब्दों के इस्तेमाल को अस्वीकार्य और अपमानजनक मानते हैं. और ईमानदारी से बात करें तो हम चाहते हैं कि प्रतिष्ठित टीवी कंपनी माफी मांगे." पुतिन की सत्ता के दौरान बहुत से जाने माने रूसी विपक्षी कार्यकर्ता और पत्रकार मारे गए हैं.

इन भारतीयों से पिछड़े हैं ट्रंप

उधर, ट्रंप ने नाटो के लिए मजबूत समर्थन व्यक्त किया है और रविवार को नाटो महासचिव येंस स्टॉलेनबर्ग के साथ टेलीफोन बातचीत में पूर्वी यूक्रेन के हालात पर भी चर्चा की. बताया जाता है कि ट्रंप और स्टॉलेनबर्ग ने इस बारे में चर्चा की कि नाटो के खर्च से जुड़ी प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के लिए कैसे सदस्य देशों को उत्साहित किया जाए. व्हाइट हाउस की तरफ से जारी बयान के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति ने यूक्रेन संकट के शांतिपूर्ण समाधान पर जोर दिया है. बयान के मुताबिक ट्रंप मई के महीने में यूरोप में नाटो नेताओं से मिलने के लिए भी सहमत हो गए हैं.

एके/वीके (एएफपी, डीपीए, एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री