1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

उल्टी पड़ गई ट्रंप चाल

इराक युद्ध में मारे गए सैनिक हुमायूं खान की मां पर टिप्पणी करना डॉनल्ड ट्रंप को भारी पड़ गया. बड़बोले ट्रंप को पहली बार अपनी पार्टी, पूर्व सैनिकों और आम नागरिकों के गुस्से का सामना करना पड़ा है.

अमेरिकी मुस्लिम सैनिक के परिवार पर की गई टिप्पणी के बाद ट्रंप को बगलें झांकने पर मजबूर होना पड़ रहा है. वैसे तो ट्रंप पहले भी कई विवादित बयान दे चुके हैं और हर बार वह विवाद से फायदा उठाने में कुछ हद तक सफल भी रहे. लेकिन विवाद पैदा कर सुर्खियों में बटोरने के चस्के ने इस बार ट्रंप को झनझना दिया है.

आए दिन मुसलमानों और विदेशी मूल के नागरिकों पर तंज कसने वाले डॉनल्ड ट्रंप की मुश्किल बीते हफ्ते शुरू हुई. 2004 में इराक युद्ध में मारे गए पाकिस्तानी मूल के सैनिक हुमायूं खान के पिता खिज्र खान डेमोक्रैटिक पार्टी के नेशनल कन्वेशन में गए. कन्वेशन में उन्होंने रिपब्लिकन उम्मीदवार ट्रंप पर निशाना साधा. खिज्र खान ने कहा, "डॉनल्ड ट्रंप क्या आपने अमेरिकी संविधान पढ़ा है?" खान ने अपनी जेब से अमेरिकी संविधान की पॉकेट साइज कॉपी निकाली और कहा, "मैं खुशी से आपको अपनी कॉपी दे सकता हूं." इस दौरान खान की पत्नी उनके बगल में खड़ी थीं.

Khizr Khan Rede Ghazala Khan USA

खिज्र खान और गजला खान

इसके जबाव में ट्रंप ने पहले तो खिज्र खान को तीखा हमला करने का जिम्मेदार ठहराया. लेकिन ट्रंप यहीं नही रुके. इसके बाद उन्होंने खिज्र की पत्नी और हुमायूं की मां गजला खान की चुप्पी का जिक्र किया किया. ट्रंप ने कहा कि वह चुप रहीं क्योंकि शायद उन्हें बोलने का आजादी नहीं दी गई. इसके बाद खान की गजला खान ने कहा, "बिना कुछ बोले, पूरी दुनिया ने, पूरे अमेरिका ने मेरे दर्द को महसूस किया." यहां से एक झटके में माहौल ट्रंप के खिलाफ चला गया. अरबपति कारोबारी यह नहीं समझ पाए कि इंसानी मूल्य कितने अहम होते हैं.

खान परिवार के समर्थन में 23 अन्य शहीदों के परिवार में आए. फिर धीरे धीरे आम लोग और रिपब्लिकन पार्टी के नेता भी इस मामले को लेकर अपनी नाराजगी जताने लगे. पूर्व सैनिकों के संघ के नेता ब्रायन डफी ने कहा कि वेटर्न्स ऑफ फॉरेन वॉर शहीदों के परिवार की अभिव्यक्ति की आजादी पर किसी भी तरह का हमला बर्दाश्त नहीं करेगी. शहीदों के परिवारों ने ट्रंप से माफी मांगने को भी कहा है.

डॉनल्ड ट्रंप के चुनावी सहयोगियों को भी अब "कैप्टन खान अमेरिका के हीरो हैं" कहना पड़ रहा है. रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से 2008 में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रह चुके जॉन मैक्केन ने भी ट्रंप की आलोचना की है, "मैं यह व्यक्त नहीं कर सकता हूं कि मैं मिस्टर ट्रंप के बयान से किस कदर आहत हूं. हमारी पार्टी ने उन्हें नामांकित किया, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनके पास हमारे बीच के श्रेष्ठ लोगों का अपमान करने का निरंकुश लाइसेंस है."

खान विवाद में उलझने का सीधा असर ट्रंप के चुनाव पर दिख रहा है. सोमवार को सामने आए चुनावी सर्वेक्षणों में ट्रंप डेमोक्रैटिक पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन से काफी पीछे दिख रहे हैं. क्लिंटन को ट्रंप पर 9 पॉइंट की बढ़त है. क्लिंटन के पास 52 अंक हैं और ट्रंप के पास 43. एक और सर्वे में हिस्सा लेने वाले 60 फीसदी लोगों ने माना कि ट्रंप राष्ट्रपति पद की जिम्मेदारियां संभालने के लिए तैयार नहीं हैं. इतने ही लोगों ने हिलेरी पर भरोसा जताया.

DW.COM

संबंधित सामग्री