1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बर्लिन के क्रिसमस बाजार में हमला, 12 की मौत

जर्मनी की राजधानी बर्लिन में एक क्रिसमस बाजार में हुए "संभावित आंतकवदी हमले" में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 12 हो गई है. सोमवार को शहर के अति व्यस्त इलाके में लगे इस बाजार में एक व्यक्ति अंधाधुंध ट्रक लेकर घुस गया था.

यह क्रिसमस बाजार पश्चिमी बर्लिन के काइजर विलहेम मेमोरियल चर्च के पास लगा था और शाम के वक्त वहां बहुत से लोगों की भीड़ थी. तभी एक ट्रक वहां घुसा और लोगों पर चढ़ने लगा. इस हमले में अब तक 12 लोगों के मारे जाने की खबर है. इसके अलावा कई लोग घायल भी बताए जाते हैं.

जर्मन चांसलर अगेला मैर्केल ने इस घटना पर दुख जताया है. उनके प्रवक्ता स्टेफेन जाइबर्ट ने ट्वीट किया, “हम लोगों के मारे जाने पर बहुत दुखी हैं और उम्मीद करते हैं कि जो लोग घायल हुए हैं उनकी पूरी तरह मदद की जाएगी.” वहीं, जर्मन गृह मंत्री थोमास डे मैजिएरे ने कहा, “मेरी संवेदनाएं मृतकों और उन लोगों के साथ हैं जो इस भयानक घटना में घायल हुए हैं.” घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है. पुलिस का कहना है कि ट्रक को चला रहा व्यक्ति मौके से फरार हो गया, जबकि एक अन्य व्यक्ति ट्रक में मृत पाया गया है.

अभी यह साफ नहीं है कि क्या यह कोई आंतकवादी हमला है, लेकिन संघीय अभियोक्ता कार्यालय ने इसकी जांच अपने हाथ में ले ली है. जिस इलाके में यह घटना हुई है, उसके एक बड़े हिस्से को सील कर दिया गया है. यह जगह बर्लिन के सबसे व्यस्त इलाकों में से एक है. जर्मनी में क्रिसमस से पहले क्रिसमस बाजारों की परंपरा रही है और शाम के समय बड़ी संख्या में लोग इन बाजारों में जाते हैं.

इस घटना के बाद बर्लिन की पुलिस ने लोगों से अपने घरों में रहने को कहा है. साथ ही यह भी अपील की है कि वे इस बारे में किसी तरह की अफवाह न फैलाएं.

बर्लिन के मेयर मिशाएल म्यूलर ने कहा है कि शहर में हालात बिल्कुल नियंत्रण में हैं. उन्होंने कहा, "हम जो कुछ देख रहे हैं वह बहुत ही नाटकीय है." उन्होंने कहा कि मारे गए लोगों के साथ उनकी संवेदनाएं हैं और घायलों के साथ वह पूरी एकजुकटा से खड़े हैं.

इस हमले ने इसी साल जुलाई में फ्रांस के शहर नीस में हुए हमले की याद ताजा कर दी हैं जब एक हमलावर ने राष्ट्रीय दिवस पर जश्न मना रहे लोगों पर ट्रक चढ़ा दिया था. इस हमले में 80 से ज्यादा लोग मारे गए थे 434 घायल हो गए थे.

एके/एमजे (डीपीए/एएफपी)

संबंधित सामग्री