1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बिकिनी में मोटी महिला के फोटो पर फेसबुक ने माफी मांगी

सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट फेसबुक ने टेस हॉलिडे का फोटो यह कहकर ब्लॉक कर दिया कि साइकिल चलाती महिला का फोटो लगाओ.

एक मोटी महिला का फोटो ब्लॉक करने के लिए सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने माफी मांगी है. वेबसाइट ने यह फोटो पोस्ट करने वाले ग्रुप से कहा था कि तस्वीर में शरीर के अंगों को अनचाहे तरीके से दिखाया गया है.

ऑस्ट्रेलिया के एक नारीवादी संगठन शेर्चेज ला फेमे ने बताया है कि फेसबुक ने इस तस्वीर को खारिज कर दिया था. इस तस्वीर को एक विज्ञापन के साथ पोस्ट किया गया था और फेसबुक ने कहा था कि यह विज्ञापन के बारे में वेबसाइट के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करती है.

ला फेमे ने जब इस पर आपत्ति जतायी तो पहले तो फेसबुक की विज्ञापन टीम ने अपने फैसले का बचाव किया. उन्होंने कहा कि यह फोटो स्वास्थ्य और फिटनेस पॉलिसी का उल्लंघन करती है. उन्होंने अपने जवाब में लिखा, "विज्ञापन किसी के शरीर या स्वास्थ्य को इस तरह नहीं दिखा सकते कि वे या तो एकदम संपूर्ण हों या फिर ऐसे हों कि कोई वैसा बनना ही न चाहे. ऐसे विज्ञापनों की इजाजत नहीं दी जा सकती क्योंकि इनसे देखने वालों को अपने बारे में खराब लग सकता है. हमारा सुझाव है कि किसी प्रासंगिक गतिविधि की तस्वीर लगाएं जैसे कि दौड़ते हुए या साइकिल चलाते हुए."

विरोध के बाद फेसबुक ने माफीनामा जारी किया. उसने कहा कि पहले अपनाए गए रुख पर माफी मांगते हुए हम मानते हैं कि यह फोटो सारे दिशा-निर्देशों के अनुकूल है. फेसबुक की ओर से जारी बयान में कहा गया, "हर हफ्ते हमारी टीम करोड़ों विज्ञापनों को देखती है. कुछ मामलों में विज्ञापनों को गलत तरीके से ब्लॉक कर दिया जाता है. यह फोटो हमारे विज्ञापन संबंधी निर्देशों का उल्लंघन नहीं करती. हम इस गलती के लिए माफी मांगते हैं. हमने विज्ञापन देने वालों को बता दिया है कि यह फोटो प्रकाशित की जा रही है."

इस फोटो को ला फेमे के "फेमिनिज्म ऐंड फैट" नाम के इवेंट के विज्ञापन के तौर पर पेश किया गया था. इसमें टेस हॉलिडे एक बिकिनी पहने मुस्कुराती हुई नजर आईं. फेसबुक ने इवेंट के पेज को तो रहने दिया था, बस इस फोटो को ब्लॉक किया था. टेस हॉलिडे एक मशहूर प्लस साइज मॉडल हैं.

यह पहला मौका नहीं है जब फेसबुक इस तरह किसी फोटो को ब्लॉक करने के लिए विवादों में है. मार्च में एक आदिवासी महिला के पेंट किए गए शरीर की तस्वीर को भी फेसबुक ने प्रकाशित करने से मना कर दिया था. इस पर सोशल मीडिया साइट ने कहा था कि सामुदायिक पैमानों का उल्लंघन होता है.

वीके/आरपी (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री