नियंत्रण रेखा पर गोलाबारी, पाकिस्तान के 9 लोगों की मौत | दुनिया | DW | 23.11.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

नियंत्रण रेखा पर गोलाबारी, पाकिस्तान के 9 लोगों की मौत

नियंत्रण रेखा पर एक बार फिर तनाव बढ़ गया है. भारत ने अपने तीन सैनिकों की मौत के बाद भारी गोलाबारी के जरिए जवाब दिया है. पाकिस्तान का कहना है कि इसमें नौ आम लोग मारे गए हैं.

पाकिस्तानी अधिकारियों ने कहा है कि पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में भारतीय गोलाबारी में एक बस निशाना बनी, जिससे कम से कम नौ लोग मारे गए हैं और 11 घायल हो गए हैं. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जमील मीर ने रॉयटर्स को बताया कि भारतीय सैनिकों ने "छोटे और बड़े हथियारों से" बस पर हमला किया.

हालांकि पाकिस्तानी सेना के जनसंपर्क विभाग की तरफ से जारी बयान में सात लोगों के मारे जाने और सात के घायल होने की बात कही गई है. भारतीय अधिकारियों ने इन मौतों के बारे में कुछ नहीं कहा है, लेकिन सेना के प्रवक्ता का कहना है कि पाकिस्तान ने बुधवार को भिमबेर गली, कृष्णा घाटी और नौशेरा सेक्टर में "अंधाधुंध" गोलीबारी शुरू कर दी.

जानिए कश्मीर मुद्दे की पूरी रामकहानी

इससे पहले, मंगलवार को भारतीय सेना ने कहा है कि नियंत्रण रेखा पर उसके तीन सैनिक मारे गए हैं. भारतीय सेना के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा कि यह घटना माछिल सेक्टर की है और हमलावरों ने एक सैनिक के शव को क्षत विक्षत भी कर दिया है. उन्होंने यह नहीं बताया कि हमला पाकिस्तानी सेना ने किया या फिर भारत विरोधी चरमपंथियों ने. लेकिन कालिया ने कहा, "इस कायराना हरकत का भरपूर बदला लिया जाएगा.”

वहीं एक भारतीय सैन्य अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया कि तीन सैनिकों पर पाकिस्तान की तरफ से आए हमलावरों की टीम ने घात लगाकर हमला किया. इस हमले के बाद माछिल सेक्टर में कई पोस्टों पर भारी गोलाबारी की खबरें हैं. पाकिस्तानी सेना कहा है कि उसने नियंत्रण रेखा पर होने वाले हमले का सिर्फ जवाब दिया है.

टाइम बम जैसे विवादों के ढेर पर दुनिया

उधर, मंगलवार को पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम का बार-बार उल्लंघन करने का आरोप लगाकर भारत से विरोध जताया. हाल के महीनों में नियंत्रण रेखा पर दोनों पक्षों की तरफ से लगातार गोलाबारी की खबरें मिलती रही हैं.

सितंबर में उड़ी के सैन्य कैंप पर हमले के बाद भारत और पाकिस्तान में तनाव बेहद बढ़ गया है. भारत ने आरोप लगाया कि हमलावरों को पाकिस्तान से मदद मिली थी और इसके बाद उसने नियंत्रण के पार सर्जिकल स्ट्राइक करने का दावा भी किया था. हालांकि पाकिस्तान ने इसे खारिज किया था और भारत से इस बारे में सबूत मांगे थे.

एके/वीके (एपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री