1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

दुनिया की सबसे उम्रदराज योग टीचर, उम्र बस 98 साल

ताओ पोरचोन-लिंच दुनिया की सबसे बुजुर्ग योग शिक्षक हैं. उम्र है सिर्फ 98 साल. सिर्फ इसलिए क्योंकि वह युवाओं की तरह ही है न सिर्फ फिट और सेहतमंद हैं बल्कि सकारत्मकता से भरपूर हैं. अमेरिका में तो वह योग की पोस्टरवुमन हैं.

ताओ दुनिया के सबसे उम्रदराज योग शिक्षिका हैं. मॉडल और एक्ट्रेस रहीं ताओ का रिकॉर्ड गिनीज बुक में भी दर्ज है. वह भारत में पली बढ़ीं और उसके बाद अमेरिका के न्यूयॉर्क में बस गईं. फिर पूरी दुनिया में घूम घूम कर योग सिखाती रहीं. ताओ स्टाइलिश और फैशनेबल हैं. वह एक स्मार्ट कार में अपने स्टूडियो आती जाती हैं. वहां वह हफ्ते में पांच क्लास लेती हैं जिनमें अक्सर छात्रों को खुद आसन करके दिखाती हैं.

अपने जानने वालों के बीच ताओ जिंदादिली की मिसाल मानी जाती हैं और इसी को वह अपनी लगभग एक सदी लंबी स्वस्थ और सेहतमंद जिंदगी का राज भी मानती हैं. महात्मा गांधी और मार्लेने डीट्रिष जैसी हस्तियों से मिल चुकीं ताओ अपने छात्रों को बताती हैं, "डरो मत. गहरी सांस लो और अपने अंदर जीवन की शक्ति को महसूस करो."

ताओ के स्टूडेंट्स में हर उम्र के लोग हैं. 52 साल की जूली एन उलब्रिच आठ साल से ताओ की शिष्या हैं. वह कहती हैं, "मैं अब ऐसी ऐसी चीजें कर रही हूं जिन्हें मैं पूरी तरह असंभव मानती थी. ताओ को 98 साल की उम्र में आत्मनिर्भर जिंदगी जीते देखना, गाड़ी चलाते देखना और आसन करते देखना एक उम्मीद जगाता है."

इंटरनेट पर भी ताओ के असंख्य प्रशंसक हैं. वह एक सिलेब्रिटी हैं और मशहूर कंपनी गैप की योगा क्लोदिंग ब्रैंड एथलीटा की एंबैस्डर हैं. हाल ही में गैप ने अपनी मैग्जीन में कवर पेज पर उनका फोटो छापा था.

मिलिए, स्वामीजी 120 साल के हैं!

ताओ कहती हैं, "मैं कुदरत में यकीन करती हूं. सांस लेने में यकीन करती हूं. मैं किसी ऐसी शक्ति की उपासना नहीं करना चाहती थी जो इस दुनिया के बाहर हो. मैं अपने भीतर किसी चीज की भक्ति में डूबना चाहती थी." अपनी ताकत की तुलना वह पेड़ों से करती हैं. सर्दी के मौसम में पत्तों से रिक्त पेड़ दिखाकर वह कहती हैं, "पेड़ों को देखो. वे सैकड़ों साल जीते हैं. इस वक्त वे सब नंगे हो गए हैं, कंकालों की तरह. मृत दिखते हैं. लेकिन वे मरे नहीं हैं. वे खुद को रीसाइकल कर रहे हैं. वे बूढ़े नहीं हो रहे हैं. वे मजबूत हो रहे हैं."

13 अगस्त 1918 को जन्मीं ताओ ने सिर्फ 7 महीने की उम्र में अपनी मां को खो दिया था. उनके पिता ने उन्हें अपने भाई-भाभी को सौंप दिया जिन्होंने भारत के पुड्डूचेरी में उन्हें पाला पोसा. उनका परिवार शाकाहारा थी. हिंदी और फ्रेंच उनकी पहली भाषाएं थीं. उनके चाचा रेलवे प्रोजेक्ट्स डिजायन किया करते थे. ताओ उनके साथ देश देश घूमती थीं. 12 साल की उम्र में वह गांधी से मिलीं. गांधी उनके घर आए थे और उन्हें आज भी याद हैं. वह कहती हैं, "छोटा सा मजेदार सा आदमी था. आंखों पर चश्मा लगाए जमीन पर बैठा था और सब उसके आगे झुक रहे थे."

तस्वीरों में, 10 भारतीय चीजें जिसने दुनिया को है प्यार

दूसरे विश्व युद्ध के दौरान वह अपने पिता को खोजने फ्रांस पहुंचीं. फिर वहां से इंग्लैंड. और 1948 में वह अमेरिका पहुंचीं जहां कई साल हॉलीवुड के लिए काम किया. कैलिफॉर्निया में वह योग टीचर बनीं. वह योग बचपन से ही करती आ रही थीं लेकिन हॉलीवुड में एक भारतीय परिचित ने उन्हें सिखाने के लिए प्रेरित किया. एक्ट्रेस डेबी रेनल्ड्स और कैथरीन ग्रेसन उनकी पहली स्टूडेंट्स थीं. लेकिन तब उन्हें योग के बारे में अपने ज्ञान को और गहरा करने की जरूरत महसूस हुई और वह भारत पहुंचीं. वहां कृष्णा पट्टाभी जोयस से उन्होंने योग सीखा. 1962 में उन्होंने एक इंश्योरेंस ब्रोकर बिल लिंच से शादी की और 1982 में लिंच के निधन तक उनके साथ रहीं. लेकिन ना कोई बच्चा है और न कोई रिश्तेदार. वह कहती हैं, "मेरे स्टूडेंट्स ही मेरे बच्चे हैं."

ताओ बॉलरूम डांस भी करती हैं और उनका पार्टनर उनसे 70 साल छोटा है.

वीके/एके (एएफपी)

DW.COM