1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

200 बच्चियों के यौन शोषण का कबूलनामा!

पुलिस के मुताबिक पांच बच्चों के बाप सुनील रस्तोगी ने अपने सैकड़ों जुर्म कबूल किए हैं. पुलिस हैरान है कि 200 से भी अधिक बच्चियों के साथ दुष्कर्म करने वाला यह आरोपी इतने सालों तक कैसे आजाद रहा.

दिल्ली पुलिस ने एक 38 वर्षीय ऐसे दर्जी को गिरफ्तार किया है जिसने पिछले 12 सालों में करीब 200 बच्चियों के साथ यौन शोषण करने की बात स्वीकार की है. अपने चौंकाने वाले कबूलनामे में सुनील रस्तोगी ने बताया कि वह 7 साल से 11 साल की कम उम्र लड़कियों को अपना शिकार बनाता था. पुलिस, रस्तोगी के इस कबूलनामे की जांच कर रही है. पुलिस ने लड़कियों के साथ हो रही यौन शोषण की घटनाओं की तहकीकात के दौरान रस्तोगी को पूर्वी दिल्ली के एक इलाके से गिरफ्तार किया था.

पुलिस ने बताया कि आरोपी का दिल्ली आना-जाना लगा रहता था और लड़कियों को बहला-फुसला कर गिफ्ट देने के बहाने एकांत में ले जाकर उनके साथ दुष्कर्म को अंजाम देता था. पूर्वी दिल्ली के पुलिस प्रमुख ओमवीर बिश्नोई ने बताया कि पुलिस फिलहाल दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में हुए छेड़छाड़ और बलात्कार के 60 मामलों में रस्तोगी के जुड़े होने की जांच कर रही है.

देखिए, औरतों के लिए खतरनाक भारतीय शहर

उन्होंने बताया कि अब तक की जांच के मुताबिक सात आपराधिक मामलों में इसके शामिल होने की पुष्टि हुई है. बिश्नोई ने बताया कि पूछताछ के दौरान उसने कई ऐसी वारदातों को अंजाम देने की बात स्वीकार की थी, और कुल मिलाकर इन मामलों की संख्या 200 तक हो सकती है. हालांकि मीडिया में आ रहीं उन खबरों को बिश्नोई ने खारिज किया है जिनमें कहा जा रहा है कि रस्तोगी ने पुलिस को यह भी बताया कि उसकी योजना 500 बच्चों को अपना शिकार बनाने की थी.

आरोपी ने अपना जुर्म कबूल करते हुए जो बताया, उसे सुनकर पुलिस भी सकते में आ गई कि कैसे इन 12 सालों तक वह कानून के शिकंजे से बचा रहा. वर्ष 2006 में बस एक बार रस्तोगी को गिरफ्तार किया गया था और उसी दौरान उसे 6 महीने की जेल हुई थी.

रस्तोगी की गिरफ्तारी ने महिला अधिकारों के लिए लड़ने वाली तमाम संस्थाओं को भी हैरत में डाल दिया है. इन कार्यकर्ताओं ने रस्तोगी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है, कुछ ने इसे मौत की सजा देने तक की पैरवी कर दी है.

देखिए, यौनकर्म की अंधेरी दुनिया में बच्चियां

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक आरोपी रस्तोगी उत्तर प्रदेश के रामपुर का स्थायी निवासी है और अपने परिवार के साथ वर्ष 1990 में दिल्ली आया था. हालांकि वर्ष 2004 में वह वापस चला गया था. एक अधिकारी के मुताबिक फिलहाल वह रूद्रपुर में रहता है. रस्तोगी के तीन लड़कियों सहित पांच बच्चे हैं. हालांकि पुलिस इसकी बेटियों से भी बातचीत कर रही है ताकि यह पता लगाया जा सके कि कहीं इसने अपनी बेटियों को तो निशाना नहीं बनाया था.

एक अन्य मामले में दक्षिण भारत के एक पुलिस अधिकारी को मानसिक रूप से विकलांग महिला के साथ बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने बताया कि अधिकारी पर चलती गाड़ी में 30 वर्षीय महिला के साथ बलात्कार करने का आरोप है. जिला पुलिस अधीक्षक ईशा पंत ने एफपी को बताया कि पीड़ित की मां ने इस मामले की शिकायत दर्ज कराई थी जिसके बाद अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है.

वीके/एके (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री