1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ब्लॉग

किसे चाहिए सेक्स अपराधों के तले चीखती शांति

यूएन शांति सैनिकों के 'चीजों के बदले सेक्स खरीदने' के कथित वाकये विचलित करते हैं. खासतौर पर यह देखते हुए कि कई मामलों में लड़कियां बेहद कम उम्र की हैं. युद्ध और शांति बहाली के बीच पिसती महिलाओं की सुध कौन लेगा.

दुनिया भर में चल रहे संयुक्त राष्ट्र के वर्तमान 16 मिशनों में करीब 1 लाख 25 हजार शांति सैनिक तैनात हैं, लेकिन असल में यूएन की अपनी कोई सेना नहीं है. जरूरत पड़ने पर संगठन अपने सभी सदस्यों देशों की सेनाओं से मदद लेता है. लाइबेरिया जैसी किसी भी गलत हरकत के कथित आरोपों की जांच की जिम्मेदारी भी उन्हीं देशों की होती है, जिनके ये सैनिक हैं. यूएन अपनी तरफ से निर्देश देता है कि "पैसों, नौकरी, सामान या किसी काम के बदले सेक्स की मांग करना मना है."

अपने स्टाफ के लोगों और उनकी मदद पा रहे लोगों के बीच शारीरिक संबंधों का समर्थन ना तो यूएन और ना ही कोई और करता है. लेकिन क्या इसका मतलब है कि लंबी अवधि तक किसी अभियान के लिए दूर भेजे जाने वाले शांति सैनिकों को किसी भी स्थानीय व्यक्ति के साथ शारीरिक संबंध रखने की अनुमति नहीं है? इस मामले में यूएन की नीति खुद उनके लोगों के लिए ही पूरी तरह स्पष्ट नहीं है. सवाल ये भी है कि किसी भी इंसान की तरह रोमांटिक और यौन संबंधों की आजादी के अधिकार से इन सैनिकों को कैसे वंचित किया जा सकता है. लेकिन चोरी छुपे होने के कारण सामान्य सी जरूरत या अधिकार की आड़ में मासूमों के उत्पीड़न को किसी भी हाल में सही नहीं ठहरा सकते.

Deutsche Welle DW Ritika Rai

ऋतिका पाण्डेय

एक दशक से भी अधिक हुआ जब 14 सालों से गृहयुद्ध का शिकार रहे लाइबेरिया में यूएन शांति सैनिकों की छाया में किसी तरह से शांति बहाल करने की कोशिशें चल रही थीं. साल 2003 में शांति के लिए काम करने वाली समाज सेविका लेमाह ग्बोवी ने ईसाई और मुसलमान महिलाओं का एक संगठन बनाया और युद्ध को जारी रखने वाले सेनापतियों को चुनौती दी. इसके अलावा उन्होंने महिलाओं को सेक्स हड़ताल पर जाने के लिए प्रेरित किया. ग्बोवी के नेतृत्व में महिला समूह तत्कालीन राष्ट्रपति चार्ल्स टेलर से मिला, जिन्होंने उनसे वादा किया कि वह घाना के साथ बातचीत कर संबंधों और स्थिति को सुधारने का प्रयास करेंगे. उनके योगदान के लिए 2011 में ग्बोवी को नोबेल शांति पुरस्कार से नवाजा गया.

यहां गौर करने वाली बात ये है कि जिस सेक्स को हथियार बनाकर सदियों से महिलाओं ने युद्ध और अशांति को दूर कर शांति बहाली का रास्ता खोला है, वे खुद आज शांति दूतों के हाथों उत्पीड़ित की जा रही हैं. यह कैसी शांति है जो किसी की गरीबी और मजबूरी का फायदा उठाकर बरकरार रखी जाए या शांति की आड़ में किसी मासूम की चीख दब जाए.

ब्लॉग: ऋतिका राय