1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

रूस से 'संबंधों' को लेकर फिर मुश्किल में ट्रंप

अब अमेरिकी अटॉर्नी जनरल जेफ सेशंस के इस्तीफे की मांग हो रही है. वॉशिंगटन पोस्ट ने खबर दी है कि वह पिछले साल वॉशिंगटन में रूसी राजदूत से मिले थे, जबकि सीनेट में अपनी नियुक्ति के दौरान उन्होंने इससे इनकार किया था.

वॉशिंगटन पोस्ट की खबर के बाद ट्रंप प्रशासन के लिए नई मुश्किल खड़ी हो गई है जो इस बात से लगातार इनकार कर रहा है कि ट्रंप के चुनावी अभियान के सदस्यों का रूस के साथ कोई संदिग्ध संबंध था. अमेरिकी खुफिया एजेंसियां राष्ट्रपति चुनाव में रूस का हस्तक्षेप होने का संदेह जाहिर कर चुकी हैं.

व्हाइट हाउस ने वॉशिंगटन पोस्ट में छपी रिपोर्ट को विरोधी डेमोक्रेट्स का हमला करार दिया है. हालांकि व्हाइट हाउस ने सेशंस और रूसी राजदूत की मुलाकात की पुष्टि की है लेकिन यह भी कहा है कि मौजूदा अटॉर्नी जनरल ने ऐसा करके कुछ गलत नहीं किया है.

वहीं, सेशंस ने एक बयान में कहा है, "मैंने चुनाव अभियान से जुड़े मुद्दों की चर्चा करने के लिए कभी किसी रूसी अधिकारी से मुलाकात नहीं की. मुझे इन सब आरोपों के बारे में कोई जानकारी नहीं है. यह सब झूठ है."

लेकिन अमेरिकी खुफिया एजेंसियां, न्याय विभाग और अमेरिकी कांग्रेस की चार संसदीय समितियां रूस से जुड़े मामले की जांच कर रही हैं. डेमोक्रेटिक पार्टी ने सेशंस का इस्तीफा मांगा है और इस मामले की तह तक जाने के लिए कांग्रेस से एक स्वतंत्र विशेष जांचकर्ता की नियुक्ति करने को कहा है.

सीनेट की इंटेलिजेंस कमेटी के सदस्य डेमोक्रेट सीनेटर रॉन वायडन ने कहा, "रूसी अधिकारियों से संपर्क रखने के बारे में अटॉर्नी जनरल के झूठे बयानों को देखते हुए, हमें एक विशेष जांचकर्ता की जरूरत है जो ट्रंप के साथियों के रूस के साथ संबंधों की जांच कर सके."

डेमोक्रेटिक पार्टी की नेता नैंसी पेलोसी ने कहा, "जेफ सेशंस ने सीनेट के सामने अपनी नियुक्ति की सुनवाई के दौरान शपथ में झूठ बोला था. सेशंस इस योग्य नहीं हैं कि हमारे देश के कानून लागू करने वाले सर्वोच्च अधिकारी बने और उन्हें इस्तीफा देना होगा."

वॉशिंगटन पोस्ट ने बुधवार को खबर छापी कि ट्रंप के चुनाव अभियान के दौरान विदेश और अन्य मामलों पर उनके सलाहकार रहे सेशंस ने जुलाई और सितंबर में रूसी राजदूत सेर्गेई किस्लियाक से मुलाकात की. वहीं सीनेट में अपनी नियुक्ति के दौरान सेशंस ने शपथ में कहा था, "मेरा रूसियों से कोई संपर्क नहीं है."

एके/एमजे (एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री