1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

एसी की छुट्टी कर देगा यह पतला सा पदार्थ?

अमेरिका में वैज्ञानिकों ने एक ऐसा पतला पदार्थ तैयार किया है जिसके आपको शायद एयर कंडीशनर की जरूरत न पड़े. 'साइंस' जर्नल में छपे एक शोध में इस बारे में जानकारी दी गई है.

अध्ययन रिपोर्ट कहती है कि इस ग्लास-पॉलिमर हाइब्रिड पदार्थ की मोटाई 50 माइक्रोमीटर है, जो एल्युमिनियम से थोड़ा ही ज्यादा मोटा है. इसके जरिए सूरज की रोशनी से गर्म होने वाली सतह को ठंडा किया जा सकता है. इसे बहुत कम लागत में तैयार किया जा सकता है और इसके लिए बिजली की भी जरूरत नहीं होगी.

शोधकर्ता और यूनिवर्सिटी ऑफ कॉलराडो में एसोसिएट प्रोफेसर शियाओबो ईन का कहना है, "हमें महसूस होता है कि बेहद कम खर्च वाली मैन्युफैक्चरिंग प्रक्रिया के जरिए इस रेडिएक्टिव कूलिंग टेक्नॉलजी से आम इस्तेमाल की चीजें बनाई जा सकती हैं." इस पदार्थ के जरिए न सिर्फ इमारतों और अन्य चीजों को ठंडा रखने में मदद मिल सकती है बल्कि इससे सोलर पैनल की उम्र भी बढ़ाई जा सकती है.

थर्मोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट्स में पानी और बिजली का इस्तेमाल कर मशीनों को इस तापमान पर बनाए रखने की कोशिश होती है कि वे काम कर सकें. वहां इस नए पदार्थ से संसाधन की बचत की जा सकती है. शोधकर्ताओं ने पाया कि यह पदार्थ सूरज की गर्मी को इन्फ्रारेड रेडिएशन में बदलकर उसे गायब कर देता है.

 

यूनिवर्सिटी ऑफ व्योमिंग्स में डिपार्टमेंट ऑफ सिविल एंड आर्किटेक्चरल इंजीनियरिंग में एसोसिएट प्रोफेसर गांग टान कहते हैं, "छत के ऊपर 10 से 20 वर्ग मीटर की जगह में इस पदार्थ को लगाने से घर में इतनी ठंडक हो जाएगी कि गर्मियों में एक परिवार उसमें आराम से रह सके." यह इतना हल्का है कि घुमावदार जगहों पर भी इसे आसानी से लगाया जा सकता है. शोधकर्ताओं का कहना है कि यह पदार्थ अभी बाजार में नहीं आया है. लेकिन बड़े पैमाने पर इसका उत्पादन करना बहुत आसान होगा.

एके/वीके (एएफपी)

देखिए प्रकृति की जबरदस्त नकल

DW.COM

संबंधित सामग्री