1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

बिना हिजाब फोटो पोस्ट करने पर सऊदी महिला को जेल

सऊदी अरब की राजधानी रियाद में पुलिस ने एक महिला को सार्वजनिक तौर पर अपना पर्दा हटाने के आरोप में गिरफ्तार किया है. महिला पर अपने 'साहसिक कारनामों' की तस्वीरें ट्विटर पर डालने का भी आरोप है.

पुलिस प्रवक्ता फवाज अल मैमान ने इस महिला का नाम सार्वजनिक नहीं किया है लेकिन कई वेबसाइटों में उसका नाम मलक अल-शहरी बताया गया है जिसने पिछले महीने रियाद की एक मुख्य सड़क पर बिना हिजाब खींची गई अपनी तस्वीर इंटरनेट पर पोस्ट की थी. इसे लेकर सोशल मीडिया पर खूब हंगामा हुआ.

मैमान ने एक बयान में कहा है कि पुलिस ने 'नैतिकता के उल्लंघन' पर नजर रखने की अपनी जिम्मेदारी के तहत इस महिला को गिरफ्तार किया है. उन्होंने बताया कि इस महिला ने रियाद के एक जाने-माने कैफे के बाहर खींची गई अपनी तस्वीर पोस्ट की थी, लेकिन उसमें सिर पर हिजाब नहीं पहना हुआ था जो सऊदी समाज में महिलाओं के लिए बहुत जरूरी माना जाता है.

पर्दा फैशन है या मजबूरी देखिए

महिला की उम्र 20 से ज्यादा है और उसे जेल भेज दिया गया है. इस महिला पर गैर पुरूषों के साथ प्रतिबंधित संबंधों के बारे में खुल कर बोलने का भी आरोप है. मैमान ने लोगों से इस्लाम की शिक्षाओं पर अमल करते रहने की अपील के साथ कहा, "रियाद की पुलिस जोर देकर कहना चाहती है कि इस महिला की गतिविधियों से इस देश के कानून का उल्लंघन हुआ है.”

तेल से मालामाल सऊदी अरब में महिलाओं के लिए कई तरह के सख्त कानून हैं और यह दुनिया का अकेला देश है जहां महिलाओं को ड्राइविंग का अधिकार नहीं है. सऊदी अरब में महिलाओं के लिए जरूरी है कि जब भी वे घर से बाहर निकलें तो उनका सिर ढका हुआ होना चाहिए.

बिना हिजाब लॉलीपॉप होती है औरत, देखिए

सऊदी समाज में किसी भी महिला की जीवन शैली से जुड़े सभी फैसले लेने का अधिकार कानूनी तौर पर उसके निकटतम पुरूष सरपरस्त को होता है. ये व्यक्ति महिला का पिता, पति और कभी-कभी तो बेटा भी हो सकता है. महिला का सारा जीवन इसी तरह की सरपरस्ती में बीतता है.

एके/वीके (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री