1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

रूस में पुतिन के आलोचक नावालनी भ्रष्टाचार के दोषी करार

रूस की एक अदालत ने विपक्षी नेता एलेक्सेई नावालनी को धोखाधड़ी के एक मामले में दोषी करार दिया है. इसका मतलब है कि वह अगले साल होने वाला राष्ट्रपति चुनाव नहीं लड़ सकते.

बुधवार को अपने फैसले में जज एलेक्सेई व्तयूरिन ने कहा कि नावालनी लगभग पांच लाख डॉलर के टिंबर घपले में दोषी है. 2013 के इस मामले में दोबारा सुनवाई के दौरान यह फैसला दिया गया है. इससे पहले नावालनी के खिलाफ आये फैसले को यूरोपीय मानवाधिकार अदालत ने यह कह कर खारिज कर दिया था कि मुकदमा निष्पक्ष नहीं था.

ताजा फैसले के बाद नावालनी को अभी सजा का एलान होना बाकी है. नावालनी रूस में 2011 और 2012 में होने वाले सरकार विरोधी प्रदर्शनों का नेतृत्व कर चुके हैं. वह अपने खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले को राजनीति से प्रेरित बताते हैं. यह मामला तब का है जब वह किरोव के गवर्नर हुआ करते थे.

देखिए पुतिन के अलग अलग चेहरे

40 वर्षीय नावालनी अपनी भ्रष्टाचार विरोधी मुहिमों के लिए जाने जाते हैं और रूसी सरकार के जुड़े वरिष्ठ अधिकारी उनके निशाने पर होते हैं. नावालनी का कहना है कि उन्हें राजनीति से दूर रखने के लिए उनके खिलाफ यह मुकदमा चलाया गया.

नावालनी ने दिसंबर में एलान किया था कि वह 2018 में होने वाला राष्ट्रपति चुनाव लड़ेंगे. इससे पहले वह 2012 में मॉस्को के मेयर का चुनाव भी लड़ चुके हैं जिसमें उन्हें शिकस्त का सामना करना पड़ा था.

राष्ट्रपति चुनाव के लिए नावालनी ने अपना अभियान शुरू भी कर दिया था. फरवरी में ही उन्होंने सेंट पीटर्सबर्ग में अपना एक चुनाव कार्यालय भी खोला. इसके उद्घाटन पर उन्होंने कहा था, "क्रेमलिन हर मुमकिन कोशिश करेगा कि मैं चुनाव में हिस्सा न ले सकूं."

इसके बाद उन्होंने अपनी वेबसाइट पर लिखा कि अदालत का फैसला भले ही जो हो, वह राष्ट्रपति पद के लिए अपना अभियान जारी रखेंगे. पेशे से वकील रहे नावालनी ने कहा, "मैं समझता हूं कि इन चुनावों में हिस्सा लेना मेरा नैतिक और कानूनी अधिकार है." हालांकि सर्वे दिखाते हैं कि मतदाताओं के बीच वह पुतिन के मुकाबले बहुत पीछे हैं.

एके/वीके (एपी, एएफपी)

पुतिन की देरी का शिकार कौन कौन बना, देखिए

DW.COM