1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ये बन गया है दुनिया का सबसे मशहूर सेल्फी स्पॉट

दुनिया का सबसे मशहूर सेल्फी स्पॉट गुलामों की कब्रों पर बना है. वहां अब जश्न है, पार्टी है.

ब्राजील में एक ऐसी जगह है जहां लोग सेल्फी लेने के लिए पागल हुए जा रहे हैं. सेल्फी लेने वालों का तांता लग गया है. इस जगह को इस वक्त का दुनिया का सबसे मशहूर सेल्फी स्पॉट कहा जा सकता है. यह जगह है ओलंपिक मशाल. ओलंपिक खेलों के दौरान यह मशाल जली रहेगी. इसे शहर के हार्बर पर रखा गया है जहां हर व्यक्ति सेल्फी लेने पहुंच रहा है.

जिस जगह मशाल रखी गई है, वहां एक विशाल स्क्रीन भी लगी है जिस पर खेलों का लाइव प्रसारण चल रहा है. लेकिन यहां आने वाले लोगों की दिलचस्पी उस प्रसारण में कम और मशाल के साथ फोटो खिंचाने में ज्यादा होती है.

रियो में जिनके हुस्न की चर्चा है

मशाल शनिवार सुबह से जल रही है और जो लोग टिकट खरीदकर ओलंपिक स्टेडियम में नहीं जा सकते, उनके लिए दुनिया के सबसे बड़े खेल मेले का हिस्सा बनने का सबसे अच्छा जरिया बनी हुई है. हालांकि यह बहुत ही छोटी सी मशाल है क्योंकि आयोजक चाहते थे कि पर्यावरण को किसी तरह का नुकसान न पहुंचे. चूंकि स्कूलों की छुट्टियां हैं तो अपने पिता के साथ मशाल देखने आईं 30 साल की स्कूल टीचर सिंथिया ओलिवेरा ने अपने स्मार्टफोन से कई तस्वीरें लीं. वह कहती हैं, "शहर में अलग ही माहौल है. सब लोगों को इस बात पर गर्व है कि वे पूरी दुनिया की मेहमाननवाजी कर रहे हैं."

सिंथिया बताती हैं कि खेलों से पहले यह इलाका बेहद पिछड़ा हुआ था. लेकिन अब पूरा इलाका रंगों से सराबोर है और चहल-पहल से रौनक है. उन्हें यकीन है कि अब ऐसा ही रहेगा.

कभी यह इलाका गुलामों का बाजार था. दुनिया के सबसे बड़े गुलाम बाजारों में इसकी गिनती होती थी. ब्राजील में अफ्रीका से करीब दस लाख लोग लाए गए थे. उनमें से ज्यादातर कब्रें यहां से लगभग 200 मीटर दूर ही हैं. कुछ कब्रें यहां भी थीं जिन्हें तोड़ डाला गया. इस बात से उन लोगों के परिवार वाले नाराज भी हैं. आलोचक कहते हैं कि जो शहर गरीबी से मरा जा रहा है, उस पर इस तरह का खर्च फिजूल है. गेम्स सिटी बनाने में लगाए गए करोड़ों रुपयों को लेकर सालोंसाल बहस चली है. लेकिन देश के लिए पहला गोल्ड पाने की खुशी भी एक गरीब के हाथों से ही आई है. जूडो खिलाड़ी रफाएला सिल्वा उसी गरीब ब्राजील में पली-बढ़ी हैं जिसके पक्ष में आलोचक बहस कर रहे थे. जहां खेल हो रहे हैं, वहां से सिल्वा का परिवार बामुश्किल 10 किलोमीटर दूर रहता है लेकिन उसके पास इतने पैसे नहीं हैं कि सिल्वा से मिलने के लिए स्टेडियम तक आ सकें.

देखें, ओलंपिक की सबसे पुरानी तस्वीरें

लेकिन ब्राजील पहुंचे हजारों लोगों को इस बात का कोई गुमान ही नहीं है. वे बस पार्टी कर रहे हैं. जश्न का अद्भुत माहौल है. बियर के स्टॉल्स भीड़ से खचाखच भरे हैं. चारों तरफ पार्टी चल रही है. लोग सेल्फ स्टिक्स खींचे हुए घूमते नजर आ रहे हैं. सेल्फियों का मेला लगा हुआ है. गरीबी और गरीबी की बातें जश्न में खो चुकी हैं.

DW.COM